मुख्यपृष्ठनए समाचारश्रीलंका से बदतर होंगे पाकिस्तान के हालात : दुनिया पर छाया परमाणु...

श्रीलंका से बदतर होंगे पाकिस्तान के हालात : दुनिया पर छाया परमाणु संकट! …भारत पर भी मंडराया खतरा

एजेंसी / नई दिल्ली
पिछले दिनों आर्थिक संकटों के कारण श्रीलंका में हालात बेहद बिगड़ गए थे। अब आर्थिक और सियासी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के हालात और भी खराब हो गए हैं। इससे भारत सहित पूरी दुनिया पर ‘परमाणु’ खतरा मंडराने लगा है। पूर्व पीएम एवं ‘पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ’ पार्टी के प्रमुख इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद वहां गृहयुद्ध जैसे हालात हो गए हैं। पाक रेंजर्स ने इमरान खान को इस्लामाबाद हाईकोर्ट के बाहर उस समय गिरफ्तार किया, जब वे अल-कादिर ट्रस्ट मामले में पेशी के लिए हाईकोर्ट पहुंचे थे। उनके खिलाफ नेशनल अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो ने १ मई को गिरफ्तारी का वारंट जारी किया था।

इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद उनके समर्थक पूरे पाकिस्तान में जगह-जगह उग्र प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर उतर आए। पीटीआई समर्थकों ने रावलपिंडी में सेना के हेडक्वार्टर पर धावा बोल दिया। लाहौर आर्मी  कैंट और कोर कमांडर के घर पर भी बवाल मचा हुआ है।
सेना कमांडर का घर फूंका
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमरान के समर्थकों ने सेना मुख्यालय के अंदर घुसकर हंगामा किया और आईएसआई दफ्तर पर भी पत्थर फेंके। बलवाइयों ने पेशावर में रेडियो स्टेशन को आग के हवाले कर दिया। इसके साथ ही मियांवाली एयरबेस पर रखे डमी एयरक्रॉफ्ट में भी आग लगा दी। इस दौरान पुलिस और समर्थकों के बीच जमकर झड़प हुई। पुलिस ने कई जगहों पर आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया तो वहीं क्वेटा में विरोध प्रदर्शन के दौरान गोलीबारी हुई, जिसमें पीटीआई के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई और छह अन्य घायल भी हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के समर्थकों ने उनकी गिरफ्तारी के विरोध में मुख्य क्वेटा एयरपोर्ट रोड को जाम कर दिया था।
विरोध के बहाने लूटपाट करते समर्थक चुरा ले गए मोर
इमरान की गिरफ्तारी के बाद समर्थक सिर्फ विरोध ही नहीं कर रहे हैं। विरोध प्रदर्शन के दौरान जमकर लूटपाट भी की जा रही है। इमरान खान के समर्थकों ने लाहौर स्थित कॉर्प कमांडर हाउस से मोर समेत तमाम सामान चुरा लिया। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि एक व्यक्ति हाथ में मोर लिए है। उसका कहना है कि मैंने यह मोर इसलिए लिया है क्योंकि यह आवाम के पैसों से खरीदा गया है।
नया पाकिस्तान बनानेवाले इमरान का सपना टूटा
नया पाकिस्तान बनाने का सपना देश की अवाम को दिखानेवाले इमरान को गत वर्ष अविश्वास मत के जरिये पद से हटा दिया गया था। हालांकि, इमरान इसके बाद भी कई बार विश्वास व्यक्त करते रहे कि वह फिर से देश की कप्तानी करेंगे। लेकिन पाकिस्तान की सियासत की जानकारी रखने वालों को इसकी उम्मीद कम ही लग रही है। देशभर में इमरान खान के खिलाफ आतंकवाद, ईशनिंदा, हत्या, हिंसा, हिंसा के लिए उकसाने से संबंधित १४० से अधिक मामले पहले से ही दर्ज हैं। इससे इमरान का सपना टूटता नजर आ रहा है।
पूछताछ के दौरान मारा थप्पड़
इमरान समर्थक पत्रकार दावा कर रहे हैं कि नेशनल अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) की कस्टडी में इमरान खान को पूरी रात टॉर्चर किया गया। एक पत्रकार ने कहा, ‘इमरान खान को पूछताछ के दौरान थप्पड़ मारे गए और उनके पैरों पर बेरहमी से चोट मारी गई। उनको पूरी रात सोने नहीं दिया गया।’ वहीं एक इमरान समर्थक नेता ने कहा कि आईएसआई इमरान का रिकॉर्डेड बयान लेना चाहती है क्योंकि इमरान ने पाकिस्तानी सेना और आईएसआई को लेकर ​तीखी टिप्पणी की थी। माना जा रहा है कि उसी के बाद कल उनकी अचानक गिरफ्तारी हुई।
गृहयुद्ध के कगार पर पाकिस्तान
पाकिस्तान में आए इस सियासी संकट पर दुनियाभर के अखबारों और वेबसाइटों की नजर है। सभी पाकिस्तान में गृहयुद्ध छिड़ने की आशंका जता रहे हैं। ‘द गार्डियन’ में विशेष लेख प्रकाशित हुआ है, जिसका शीर्षक है कि ‘वैâसे इमरान खान पाकिस्तान को बांटने वाले व्यक्ति बन गए।’ पाकिस्तान की सियासी उठापटक का जिक्र करते हुए हांगकांग के अखबार ‘साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ ने इमरान की गिरफ्तारी वाली खबर में ये भी बताया है कि पुलिस ने इमरान के समर्थकों पर आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछारें की हैं। अखबार ने बताया है कि इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान में जगह-जगह हिंसा भड़क गई है। साउथ एशिया सेंटर के डायरेक्टर माइकल कुगलमैन के हवाले से बताया गया है कि इमरान खान की गिरफ्तारी संभवत: यह संकेत दे रही है कि पाकिस्तान की सेना की नजर में इमरान खान ने ‘हद पार कर दी है’। न्यूयॉर्क टाइम्स ने भी इमरान खान की गिरफ्तारी को सेना के साथ उनके टकराव बढ़ने से जोड़ा है।
अमेरिका-ब्रिटेन को आतंकी हमले का डर
इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद राष्ट्रव्यापी विरोध के बीच इस्लामाबाद स्थित अमेरिकी दूतावास ने सभी काउंसलर नियुक्तियों को १० मई तक के लिए रद्द कर दिया है। अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन ने अपने नागरिकों को अलर्ट कर दिया है। यातायात व्यवधान और प्रतिबंधों के कारण अमेरिकी दूतावास ने पाक में अपने नागरिकों से सतर्कता बरतने और भीड़ वाले स्थानों से बचने के लिए कहा है। इस बीच कनाडा ने अपने नागरिकों को अप्रत्याशित सुरक्षा स्थिति के कारण पाकिस्तान में उच्च स्तर की सावधानी बरतने के लिए ट्रेवल एडवाइजरी जारी की है। इस एडवाइजरी में कहा गया है कि पाकिस्तान में आतंकवाद, नागरिक अशांति, सांप्रदायिक हिंसा और अपहरण का खतरा है।
करगिल जैसे युद्ध की आशंका
सेना, सरकार और इमरान खान के बीच दुश्मनी से पाकिस्तान में उपजी अराजक स्थिति को लेकर प्रोफेसर मुक्तदर खान का कहना है कि पाकिस्तान की सेना के पास घरेलू स्थिति से लोगों का ध्यान भटकाने और उन्हें अपने पक्ष में करने का एक विकल्प यह हो सकता है कि वो भारत के साथ करगिल जैसा कोई युद्ध शुरू कर दे। अमेरिका के डेलावेयर यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर मुक्तदर खान ने कहा कि पाकिस्तान अगर उकसाता है तो हिंदुस्थान उसे संभलने का मौका नहीं देगा।

पूरी दुनिया चिंतित
इस्लामाबाद हाईकोर्ट से इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान जल रहा है। पाकिस्तान गठन के बाद यह पहली बार है, जब जनता और किसी राजनीतिक दल की रडार पर उसकी सेना है। खैबर पख्तूनख्वा, लाहौर, रावलपिंडी में सेना पर पथराव भी हुआ है। इमरान समर्थकों का कहना है कि सेना की वजह से ही उनकी गिरफ्तारी हुई है। परमाणु संपन्न पाकिस्तान के अस्थिर होने से हिंदुस्थान सहित दुनियाभर के देश चिंतित हैं। परमाणु हथियारों के गलत हाथों में जाने की आशंका बढ़ गई है। पाकिस्तान में बिगड़े हालात पर ब्रिटेन और अमेरिका ने बयान जारी किया है। पाकिस्तान के मौजूदा हालात ने भारत की भी चिंता बढ़ा दी है। पड़ोसी मुल्क पर भारत की नजर बनी हुई है। भारत सरकार इस्लामाबाद में डिप्लोमैटिक मिशन और भारतीय राजनयिकों की सुरक्षा को लेकर भी चिंतित है। फिलहाल पाकिस्तान के न्यूक्लियर बेस और न्यूक्लियर पावर प्लांट पर सुरक्षा बढ़ाई गई है। हथियारबंद कमांडों तैनात किए गए हैं। रास्तों को पूरी तरह सील कर दिया गया है। ड्रोन से पूरे इलाके में नजर रखी जा रही है।

इमरान ने जताई हत्या की आशंका
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपनी गिरफ्तारी पर इस्लामाबाद हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। इमरान खान ने कोर्ट में दलील दी कि इस मामले से जु़ड़ी सामान्य पूछताछ कब जांच में बदल गई एनएबी द्वारा इस संबंध में कोई नोटिस जारी नहीं की गई। इमरान ने सर्वोच्च न्यायालय को यह भी बताया कि उनकी गिरफ्तारी के बाद से उन्हें टॉयलेट नहीं जाने दिया गया। साथ ही उनका कहना है कि उन्हें धीमा जहर दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मुझे डर है कि वे (सेना) मुझे ‘मकसूद चपरासी’ की तरह मार सकते हैं। इमरान खान ने कहा कि वे लोग ऐसा इंजेक्शन लगाते हैं, जिससे धीरे-धीरे एक व्यक्ति मर जाता है। गौरतलब हो कि मकसूद चपरासी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुख्य गवाह थे, जिन्हें मकसूद चपरासी के नाम से जाना जाता है। पाकिस्तान की सियासत की जानकारी रखनेवाले जानकार भी ऐसी ही आशंका जता रहे हैं क्योंकि नवाज शरीफ, आसिफ अली जरदारी, परवेज मुशर्रफ से लेकर जुल्फिकारअली भुट्टो तक की कहानी अच्छी नहीं रही है। ७० वर्षीय इमरान पर पहले भी एक बार जानलेवा हमला हो चुका है।

अन्य समाचार