मुख्यपृष्ठटॉप समाचारपंचसूत्री योजना को मिशन मोड पर अमल में लाओ! मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे...

पंचसूत्री योजना को मिशन मोड पर अमल में लाओ! मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का अधिकारियों को निर्देश

सामना संवाददाता / मुंबई। बजट सत्र के दौरान राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार ने पंचसूत्री योजना की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस योजना को पूरी तरह से अमल में लाने और जनता को इसका लाभ पहुंचाने के लिए इस पर मिशन मोड पर काम शुरू करने का निर्देश राज्य के अधिकारियों को दिया है। उन्होंने कहा कि सरकारी योजना का लाभ आम जनता को मिल सके, इसके लिए प्रशासन को अभियान चलाकर योजनाओं को पूरा करना पड़ेगा। गुरुवार को राज्य की व्यवस्था और विकास कार्यों की समीक्षा सहित मानसून की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने महानगरपालिका आयुक्त, पुलिस प्रशासन, रेल प्रशासन, म्हाडा, विभागीय मंडल आयुक्तों, जिला अधिकारियों आदि की बैठक बुलाई थी।
‘सह्याद्रि’ गेस्ट हाउस में हुई बैठक
इस बैठक में उन्होंने राज्य के तमाम विषयों को लेकर संबंधित अधिकारियों से पूछताछ कर जायजा लिया। सरकार की ओर से घोषित पंचसूत्री योजना कृषि, स्वास्थ्य, मानव विकास, परिवहन व औद्योगिक क्षेत्र के सास्वत विकास योजना को तेजी से अमल में लाने का निर्देश उन्होंने अधिकारियों को दिया। मानसून की पूरी तैयारियों को लेकर सभी अधिकारियों को तैयार रहने और अभी से काम का लक्ष्य निर्धारित कर उसे पूरा करने का निर्देश दिया।
उन्हेंने कहा कि मूलभूत विकास सुविधाओं का लाभ जनता को मिलना चाहिए। मौजूदा समय में सबसे जरूरी है ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में लोगों को मूलभूत सुविधाओं का लाभ मिल सके, इसके लिए सभी विकास परियोजनाओं को समय से पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित कर उस पर मॉनिटरिंग जरूरी है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण पूरक विकास को ही प्रमुखता मिले, पर्यावरण पूरक विकास को प्राथमिकता से क्लाइमेट कंट्रोल होगा। पर्यावरण का संतुलन बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण सहित तमाम हरित विकास योजनाओं का काम जारी रखें। उन्होंने कहा कि मानसून की तैयारियों को लेकर अभी से जुट जाएं। बाढ़ और तूफान के साथ भूस्खलन जैसे मामलों से निपटने के लिए अभी से प्रबंधन व्यवस्था मजबूत करें। जनहित योजनाओं को मिशन के रूप में स्वीकार कर काम करें। जनता की समस्या को स्थानीय स्तर पर ही निपटाने का प्रयास हो, ताकि उन्हें अनायास मुंबई आकर अपना समय बर्बाद न करना पड़े।

अन्य समाचार