मुख्यपृष्ठनए समाचारबिना काम ठेकेदार को दो करोड़ का भुगतान! ...ठाणे मनपा अधिकारियों की...

बिना काम ठेकेदार को दो करोड़ का भुगतान! …ठाणे मनपा अधिकारियों की भाजपा ने खोली पोल

शिंदे सरकार में खुलेआम भ्रष्टाचार
राजन पारकर / मुंबई
मुख्यमंत्री के कार्यक्षेत्र ठाणे में भ्रष्टाचार इस हद तक पहुंच गया है कि अधिकारियों द्वारा ठेकेदारों को बिना काम किए ही करोड़ों रुपए की खैरात बांटी जा रही है। इस भ्रष्टाचार का खुलासा भी शिंदे गुट की सहयोगी पार्टी भाजपा के नेताओं ने किया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बिना काम के सीवरेज ट्रीटमेंट ठेकेदार को २ करोड़ का भुगतान मनपा के अधिकारियों ने किया। कोपरी में सीवरेज ट्रीटमेंट निरीक्षण में अधिकारी और ठेकेदार की मिलीभगत उजागर हो गई। इस योजना में अनियमितताएं और खुला भ्रष्टाचार होने का आरोप भाजपा के विधायक संजय केलकर ने लगाया है।
ठाणे शहर के आठ से अधिक हिस्सों से लाए गए मल नि:सारण को प्रक्रिया करके कोपरी की खाड़ी में छोड़ा जा रहा था। हालांकि, इस पानी को शुद्ध कर उसे उपयोग लायक बनाने के लिए पीपीपी आधार पर परियोजना शुरू कर भविष्य में उस पानी को बेचकर बिजली पैदा की जाएगी, ऐसी योजना थी। वी. वी. टेक वाबैग लिमिटेड को तीन साल पहले यह काम सौंपा गया था। नई मुंबई में इस अवधारणा की सफलता ने ठाणेकरों की ठाणे में सीवरेज प्रक्रिया को लेकर उम्मीदें बढ़ा दी थीं। पिछले तीन वर्षों में जब इनमें से कोई भी काम पूरा नहीं हुआ। खासकर तत्कालीन आयुक्त की मंजूरी के बिना और ठेकेदारों द्वारा समय-समय पर किए गए आंतरिक परिवर्तनों के बिना अधिकारियों ने रुपए का भुगतान किया। विधायक संजय केलकर ने शनिवार को कोपरी में परियोजना का निरीक्षण किया और अधिकारियों के खुले भ्रष्टाचार पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि यह बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार है और अधिकारियों ने ठेकेदार को बिना काम किए ही ठाणेकर की जेब से दो करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया है। अधिकारी बेरोक-टोक मनपा को लूट रहे हैं और उन पर कोई नियंत्रण नहीं है। इस मामले में तुरंत जांच शुरू की जानी चाहिए। इसमें किसका हाथ है, वह जल्द ही जनता के सामने आ जाएगा। संजय केलकर ने यह भी मांग की कि संबंधितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

अन्य समाचार