मुख्यपृष्ठनए समाचारपी ले, पी ले ओ मोरे राजा... पीने वालों पर मेहरबान ‘घाती'...

पी ले, पी ले ओ मोरे राजा… पीने वालों पर मेहरबान ‘घाती’ सरकार! …क्रिसमस और नए साल पर देर रात तक मिलेगी शराब

• सुबह ५ बजे तक खुली रहेंगी बार और शराब की दुकानें 
• गृह विभाग ने दी मंजूरी
• सरकार का राजस्व बढ़ने का दावा
सामना संवाददाता / मुंबई 
क्रिसमस और नए साल को देखते हुए राज्य की ‘घाती’ सरकार पीने वालों पर मेहरबान हुई है, ऐसा प्रतीत होता है। राज्य सरकार की तरफ से दिए गए एक आदेश में कहा गया है कि तीन दिन सुबह पांच बजे तक बार और शराब की दुकानें खुली रहेंगी। इसे लेकर बाकायदा गृह विभाग की तरफ से आदेश भी जारी किया जा चुका है, वहीं दूसरी तरफ यह भी संभावना जताई जा रही है कि इससे लॉ एंड ऑर्डर बिगड़ सकता है। साथ ही गंभीर वारदातें भी हो सकती हैं। नए साल के मद्देनजर ‘घाती’ सरकार ने शराब की दुकानों व परमिट रूम को २४, २५ और ३१ दिसंबर को सुबह पांच बजे तक खुले रहने की अनुमति दी है। इसके अलावा कुछ शराब की दुकानें, विदेशी और प्रीमियम शराब की दुकानें रात एक बजे तक खुली रहेंगी। साथ ही पब, बार एंड रेस्तरां, बीयर बार भी सुबह पांच बजे तक खुले रहेंगे। राज्य सरकार द्वारा दी गई इस अनुमति से शराब के शौकीन तीन दिन तक सुबह पांच बजे तक थर्टी फर्स्ट की पार्टी मना सकेंगे।
…तो निरस्त किया जा सकता है आदेश
गृह विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, सार्वजनिक शांति बनाए रखने और कानून व सुव्यवस्था को ध्यान में रखते हुए इस समय की छूट के संबंध में जिलाधिकारी निर्णय ले सकते हैं। इसका मतलब यह है कि जिलाधिकारी के आदेश से समय संबंधी दी गई छूट रद्द की जा सकती है।

‘शराबी’ भरेंगे तिजोरी 
घाती सरकार के अधीनस्थ काम करनेवाले गृह विभाग के अधिकारियों का कहना है कि नए साल का स्वागत करने के लिए कई लोग ३१ दिसंबर को शराब पीते हैं। इसके साथ ही धूमधाम से नए साल का स्वागत करने के लिए पार्टियां भी आयोजित करते हैं। पार्टियों में शराब की अधिक मांग रहती है। शराब की बिक्री से राज्य उत्पाद शुल्क विभाग को वित्तीय लाभ होता है। शराब की बिक्री से राज्य को बड़ी मात्रा में राजस्व भी मिलता है। इसलिए इस बार समय बढ़ाने के पैâसले से सरकार को आर्थिक लाभ होगा।

अन्य समाचार