मुख्यपृष्ठनए समाचारलोक आस्था का महापर्व छठ की तैयारी में जुटे लोग... रेलवे टिकट...

लोक आस्था का महापर्व छठ की तैयारी में जुटे लोग… रेलवे टिकट की मारामारी से लोग परेशान

अनिल मिश्र / पटना

लोक आस्था का महापर्व छठ की तैयारी चरम पर है। कल शनिवार यानी 17 नवंबर को नहाय-खाय से शुरू होकर सोमवार 20 नवंबर को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ-साथ पूजा-पाठकर छत्तीस घंटे का उपवास के बाद पारण के साथ व्रत खत्म किए जाएंगे। यह महापर्व बिहार के लोक जीवन से जुड़कर महान आस्था का पर्व माना जाता है। इसी कारण बिहार के लोग इस महापर्व के अवसर पर अपने-अपने घरों में ही रहकर मनाने का जरूर प्रयास करते हैं। वैसे तो यह महापर्व बिहार व देश के अन्य जगहों सहित विदेशों में भी मनाया जाता है, मगर अपने पैतृक गांव या घर में मनाने की तमन्ना सभी बिहार के लोग रखते हैं।
इसी कारण अपने घरों से निकल कर जीविकोपार्जन हेतु देश के कोने-कोने में रहने वाले बच्चे से लेकर युवा, बड़े-बुजूर्ग और महिलाएं इस महापर्व में अपने घरों में जरूर आते हैं। यह सिलसिला छठ पर्व शुरू होने के साथ से चला आ रहा है। अपनी रोजी-रोटी की तलाश में या जीविकोपार्जन के लिए बिहार छोड़कर काफी संख्या में लोग दिल्ली, मुंबई, कोलकात्ता, चेन्नई, सूरत, लुधियाना, पंजाब, हरियाणा सहित देश के कोने-कोने में लोग रहते हैं। वहीं काफी संख्या में यहां के लोग दूसरे प्रदेशों में रहकर अपना योगदान सरकारी सेवा में दे रहे हैं। उनका भी छठ करने का लगाव अपने पैतृक घर में ही रहता है। हालांकि, अपने रोजगार के साथ-साथ लोग दूसरी जगहों पर भी लोग अपने घर बना भी लिए हैं, लेकिन छठ के अवसर पर अपनी मिट्टी को जरूर याद करते हैं। एक तरफ जहां बिहार के लोगों को छठ के मौके पर अपने गांव-घर जाने की जल्दी है, वहीं चार माह पहले रेल का रिजर्वेशन लेने के बाद भी मारामारी करनी पड़ रही है। किसी का वेटिंग सौ है, तो किसी को भीड़ के कारण काफी परेशानी हो रही है। आलम यह है कि दिल्ली से लेकर कोलकाता, मुंबई से लेकर चेन्नई, लुधियाना से लेकर अमदाबाद और सूरत से पटना-गया सहित बिहार आने वाली ट्रेनों में लोग भेड़-बकरी की तरह भरकर आ रहे हैं।
इतना हीं नहीं रेल के शौचालय से लेकर पौदान तक बैठ कर अपने घर पहुंचने को लेकर आतुर हैं। हलांकि, इस त्योहार को देखते हुए रेलवे ने लगभग 300 सवारी गाड़ी चलाई है। वहीं इन गाड़ियों द्वारा लगभग 900 फेरा लगाए जाने की सूचना प्राप्त हुई है। वहीं इस महापर्व के अवसर पर हवाई सेवा भी काफी महंगे हुए हैं, जहां पटना से दिल्ली सफर करने के लिए आमतौर पर 3,500 रुपए से 5 हजार तक लगता है। वहीं इस समय 20 हजार रुपए लग रहे हैं। वहीं बंगलुरु से पटना 6 से 7 हजार लगते हैं। यहां अभी तीन गुना बढ़ा है, जबकि पटना से मुंबई का भी तीन से चार गुना का इजाफा होने के बाद भी इन टिकटों के लिए मारा-मारी मची हुई है। इस तरह देश के कोने-कोने से बिहार आने वाले लोगों को पहली बार इस तरह की कठिनाई से सामना नहीं करना पड़ रहा। ये सिलसिला वर्षों से चला आ रहा है। इसके लिए यहां की सरकार जिम्मेवार है, जो यहां रोजगार नहीं रहने के कारण लोग दूसरी जगह अपनी रोजी-रोटी के लिए किसी तरह अपने घर-गांव छोड़कर जाते हैं। दूसरी तरफ केंद्र की सरकार भी जिम्मेदार है।
सरकार किसी की हो इस महापर्व छठ के अवसर पर रेलवे द्वारा पहले से ही भारी संख्या में गाड़ी चलाने और बोगी बढ़ाने का काम क्यों नहीं स्थाई तौर पर करती है, जबकि राज्य में सरकार और केंद्र में सरकार किसी की भी बदलती रहे। यहां छठ की महत्ता कभी भी नहीं घटती या बदलती है। इसीलिए राज्य और केंद्र दोनों सरकारों का कर्तव्य बनता है कि इस संबंध में प्रति वर्ष होने वाली परेशानी और बदइंतजामी का कोई ठोस कदम उठाए।

अन्य समाचार