मुख्यपृष्ठनए समाचारईडी, सीबीआई से छुटकारे का वादा करके मुझे लोग अपनी पार्टी में...

ईडी, सीबीआई से छुटकारे का वादा करके मुझे लोग अपनी पार्टी में बुला रहे हैं! -रॉबर्ट वाड्रा का सनसनीखेज खुलासा

सामना संवाददाता / मुरादाबाद
राजनीति में प्रत्यक्ष सहभाग नहीं होने के बावजूद कांग्रेस में सबसे बड़ा कद रखनेवाली सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा लंबे समय से कांग्रेस विरोधी दूसरे दलों खासकर भाजपा के निशाने पर रहे हैं। भाजपा और केंद्र सरकार के निर्देश पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) व सीबीआई जैसी केंद्रीय जांच एजेंसियां कथित भ्रष्टाचार के मामलों में जांच के बहाने वाड्रा को प्रताड़ित करती रही हैं। लेकिन दूसरे कथित भ्रष्टाचारियों की तरह वाड्रा को भी भाजपा का ‘हिस्सा’ बनने के लिए प्रलोभन दिया जा रहा है। उन्हें केंद्रीय जांच एजेंसियों के झमेले से छुटकारा दिलाने के वादे के साथ भाजपा नीत एनडीए गठबंधन में शामिल दल लोकसभा में अपना उम्मीदवार बनाने की पेशकश कर रहे हैं, ऐसा सनसनीखेज खुलासा खुद रॉबर्ट वाड्रा ने एक साक्षात्कार के दौरान किया है।
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने मुरादाबाद से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। एक साक्षात्कार के दौरान वाड्रा ने कहा कि राजनीतिक परिवार से जुड़े होने के कारण मुझे परेशान किया जा रहा है। राजनीति में न होने के बावजूद मैं सियासी लड़ाई लड़ रहा हूं। उन्होंने कहा, ‘मेरे पास कई लोगों के पार्टी में शामिल होने के ऑफर आए हैं। एक बड़े नेता ने कहा कि अगर मैं उनकी पार्टी में शामिल होता हूं तो वो मेरे ऊपर चल रहा केस खत्म करा सकते हैं। यहां तक कि ‘ईडी’ और दूसरी जांच एजेंसियों से भी छुटकारा दिला देंगे।’
पहला अधिकार प्रियंका का है
फ्यूचर प्लान के बारे में पूछे जाने पर वाड्रा ने कहा कि मेरे चाहने से कुछ नहीं होगा। होगा वही, जो लोग चाहते हैं। इसी के साथ उन्होंने कहा कि मेरे पास कई जगह से लोग आते हैं, मुरादाबाद से लोग आते हैं और कहते हैं, आप मेहनती हो। कोविड के समय काम किया। कई मुद्दों पर मैं बोलता हूं। लोगों को दिखता है कि भाजपा ने जिस तरह से मेरे साथ व्यवहार किया। एजेंसियों का दुरुपयोग करके मुझे मुश्किलों में डालने की कोशिश की गई। मेरे बिजनेस को जरिया बनाकर मुझे परेशान किया गया, इसलिए लोगों को लगता
है कि अगर मैं संसद में रहूंगा तो मैं अपनी बात रख पाऊंगा और सभी चीजें स्पष्ट हो जाएंगी। मुझे भी लगता है कि मैं अपने दफ्तर में बैठकर बहुत सी राजनीतिक चीजों का जवाब नहीं दे पाऊंगा। मुझे भी राजनीति में उतरना चाहिए। लेकिन, मेरा परिवार और पार्टी जब चाहेगी या हां बोलेगी, तभी मैं चुनाव लड़ूंगा। मुझे हमेशा लगा है कि संसद में पहली जगह प्रियंका की है। पहले उन्हें जाना चाहिए। प्रियंका के बाद ही मैं राजनीति में कदम रखना चाहता हूं। मैं अन्य पार्टियों के लोगों से भी मिलता हूं। वो लोग मजाक में कहते हैं कि आप हमारी पार्टी में आ जाओ। मुझे किसी ने ये भी बोला कि आप हमारी पार्टी में आ जाओ, जो भी आपकी मुश्किलें हैं, वह हट जाएंगी। लेकिन मैं कभी दूसरी पार्टी में जाने की सोच भी नहीं सकता।

अन्य समाचार