मुख्यपृष्ठनए समाचारपीएनजी पर भी केंद्र ने डाला कीमतों का भार ...१६ दिनों में...

पीएनजी पर भी केंद्र ने डाला कीमतों का भार …१६ दिनों में १४ बार बढ़ा पेट्रोल-डीजल का भाव

• राज्य सरकार ने की थी सीएनजी सस्ती
•  केंद्र ने फिर बढ़ाई कीमत
सामना संवाददाता / मुंबई । पेट्रोलियम व गैस ईंधन की कीमतों में केंद्र सरकार द्वारा लगातार की जा रही वृद्धि से आम जनता परेशान हो गई है। गलत नीतियों के चलते मुंबईकरों के सफर और स्वाद दोनों की दशा बिगड़ गई है। जी हां, पेट्रोल और डीजल की कीमतों में १६ दिनों में १४ बार वृद्धि से त्रस्त जनता को केंद्र ने अब सीएनजी और पीएनजी (पाइप रसोई गैस) का झटका दिया है। पिछले दिनों महाराष्ट्र की महाविकास आघाड़ी सरकार ने जीएसटी १३ फीसदी से ३ फीसदी तक घटाकर राज्य की जनता को राहत देने की कोशिश की थी लेकिन केंद्र सरकार ने बुधवार को मुंबई सहित दिल्ली और गुजरात में भी सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में भारी बढ़ोतरी की। मुंबई में सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में क्रमश: ७ रुपए और ४१ रुपए क्यूबिक मीटर की दर से वृद्धि की गई है।
इससे पहले राज्य सरकार ने सीएनजी की कीमतों को कंट्रोल करने के लिए टैक्स कम कर दिया था लेकिन केंद्र ने फिर से सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में वृद्धि कर महंगाई को हवा दी है।
महानगर गैस लिमिटेड (एमजीएल) के अनुसार मुंबई में कंपेक्ड नेचुरल गैस (सीएनजी) की कीमत सात रुपए प्रति किलो बढ़ाकर ६७ रुपए प्रति किलो कर दी गई है, जबकि गुजरात में ६.५ रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी कर इसे ७६.९८ रुपए कर दिया गया है। दिल्ली में २.५ रुपए प्रति किलोग्राम की गई है। पिछले एक महीने में दरों में लगभग १० रुपए की वृद्धि हुई है।
पेट्रोल के दाम लगभग रोज बढ़ रहे हैं
देशभर में पेट्रोल-डीजल के साथ-साथ सीएनजी के दामों में भी लगातार बढ़ोतरी हो रही है। पिछले १६ दिनों में पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार १४ बार बढ़े हैं। मुंबई में पेट्रोल ने जहां १२० रुपए का आंकड़ा पार कर लिया है तो वहीं डीजल ने भी शतक बनाया है लेकिन ऐसे में मुंबईकरों की चिंता बढ़ गई है। महंगाई अब लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगी है।
टैक्सी चालक हुए परेशान
ईंधन के बढ़ते दामों की वजह से आम जनता बेहाल है। महंगे ईंधन से सिर्फ निजी गाड़ियां चलानेवाले लोग ही नहीं बल्कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसे-कैब, ऑटोरिक्शा, ट्रक, टेंपो चालकों और उनके मालिकों को भी कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। मुंबई में टैक्सी चालक नंदलाल पांडेय ने बताया कि सीएनजी के दाम बढ़ने से उनकी आमदनी पर काफी बुरा असर पड़ रहा है। टैक्सी चालकों को आमदनी के नाम पर अब जीरो बचत हो रही है।
पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दाम पहले ही बढ़े
सीएनजी की कीमतों में इस वृद्धि से पहले पेट्रोल और रसोई गैस के दाम तेजी से बढ़े हैं। पिछले १६ दिन में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में १४ बार वृद्धि की गई है। प्रति लीटर १० रुपए की बढ़ोतरी हुई है, उधर रसोई गैस (एलपीजी) की दरों में ५० रुपए प्रति सिलिंडर की वृद्धि पहले ही हो चुकी है। दिल्ली में एलपीजी ९४९.५० रुपए हो गई है तो कुछ स्थानों पर रसोई गैस की कीमत १,००० रुपए तक पहुंच गई है।

अन्य समाचार