मुख्यपृष्ठसमाचारदुष्प्रचार के लिए अखबार निकालता है पीएफआई

दुष्प्रचार के लिए अखबार निकालता है पीएफआई

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
भारत में हिंसा, दंगा और आतंकी गतिविधियों में लिप्त रहने के आरोपों में जांच एजेंसियों का सामना कर रहा कट्टरपंथी संगठन ‘पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ ‘पीएफआई’ विदेशों में हिंदुस्थान के खिलाफ दुष्प्रचार में भी आगे रहा है। खास तौर पर बड़ी संख्या में भारतीय मुसलमानों की मौजूदगी वाले खाड़ी देशों में पीएफआई ‘गल्फ तेजस डेली’ नामक अखबार भी निकालता है। अपने एजेंडे के प्रचार-प्रसार के लिए वह केरल में भी ‘तेजस’ नाम से अखबार प्रकाशित करता था। २०१८ में इसे बंद कर दिया गया।
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा लखनऊ की अदालत में दाखिल शफीक पेयेथ के रिमांड लेटर में ‘गल्फ तेजस डेली’ का स्पष्ट उल्लेख है। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि शफीक ने ‘गल्फ तेजस डेली’ में २०१८ तक दो साल के लिए बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर के रूप में काम किया था। ईडी उसको हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। उससे खाड़ी देशों में फंड जुटाने और भारत तथा खासकर हिंदुओं के खिलाफ दुष्प्रचार के नेटवर्क के बारे में पूछा जा रहा है। वहीं ईडी द्वारा केरल से गिरफ्तार पीएफआई के सदस्य शफीक पेयेथ की रिमांड एप्लीकेशन में ईडी ने लिखा है कि पीएफआई के अकाउंट में पिछले एक साल में करीब १२० करोड़ रुपए जमा कराए गए हैं। इसमें से ज्यादातर पैसे कैश में जमा कराए गए हैं। ईडी ने आगे लिखा है कि इस पैसे से ट्रेनिंग वैंâप का आयोजन कर हिंसक गतिविधियों के लिए करना था।

अन्य समाचार