मुख्यपृष्ठनए समाचारकेदारधाम के तीर्थयात्री हो रहे कुव्यवस्था के शिकार ...भाजपा नेताओं को मिला...

केदारधाम के तीर्थयात्री हो रहे कुव्यवस्था के शिकार …भाजपा नेताओं को मिला वीआईपी ट्रीटमेंट!

मंदिर परिसर में फोटो खींचने पर है प्रतिबंध
नेता ने शेयर की गर्भगृह की तस्वीर
प्रशासन ने नहीं की कोई कार्रवाई
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
चारधाम यात्रा इस बार कुव्यवस्थाओं के कारण अधिक चर्चा में है। लाखों यात्री सरकार की लापरवाही का खामियाज भुगत रहे हैं। तीर्थयात्रियों को जहां कई जगहों पर घंटों जाम से जूझना पड़ रहा है तो वहीं हाइवे पर जगह-जगह काम चल रहा है, लेकिन इस सबके बीच एक चौकानेवाली खबर सामने आई है। भले ही तीर्थयात्रियों को परेशानी हो रही है, लेकिन भाजपा नेताओं को वीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है। एक भाजपा नेता को न केवल वीआईपी एंट्री दिलाई गई, बल्कि उक्त नेता ने मंदिर के गर्भगृह में फोटो भी खिंचाया, जबकि कानूनन मंदिर के ५० मीटर दायरे में फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। मामले का खुलासा तब हुआ जब नेता ने इस तस्वीर को सोशल मीडिया में शेयर किया और तस्वीर वायरल हो गई। इस सबके के बावजूद प्रशासन की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की गई।
क्या था मामला?
बताया जाता है कि भाजपा प्रदेश युवा मोर्चा के महामंत्री रवि पाल ने केदारनाथ मंदिर का दर्शन कर सोशल मीडिया पर गर्भगृह की कुछ फोटो शेयर की है, जिसके बाद कांग्रेस हमलावर हो गई है। कांग्रेस का कहना है कि चारधाम मंदिर के आसपास तमाम पुलिसकर्मी रोजाना ऐसे कई लोगों पर कार्रवाई कर रहे हैं, जो मोबाइल का प्रयोग वीडियो बनाने या प्रतिबंधित क्षेत्र में फोटो खींचने के लिए कर रहे हैं। पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार ने भी इस बारे में जिला पुलिस प्रभारियों को आदेश जारी किया है, लेकिन भाजपा नेताओं द्वारा ही नियमों को ताक पर रख जब इस तरह के नियम विरुद्ध कार्य किए जाएंगे तो आखिर आमजन भला क्यों इन नियमों का पालन करेंगे।
वीआईपी व्यवस्था पर रोक
केदारधाम वीआईपी व्यवस्था को लेकर मुख्य सचिव पहले ही रोक लगा चुकी हैं। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने पत्र जारी कर कहा है कि केदारधाम में किसी भी प्रकार का वीआईपी दर्शन सिस्टम नहीं होगा। बावजूद इसके रवि पाल को वीआईपी एंट्री दी गई।

अन्य समाचार