मुख्यपृष्ठनए समाचारपीएमसी के निवासियों ने लगाया आरोप: क्षेत्र में बढ़ रही डेंगू-मलेरिया...

पीएमसी के निवासियों ने लगाया आरोप: क्षेत्र में बढ़ रही डेंगू-मलेरिया के मरीजों की संख्या

सामना संवाददाता / नई मुंबई

पनवेल महानगरपालिका (पीएमसी) क्षेत्र के निवासियों ने आरोप लगाया है कि खारघर, कामोठे, कलंबोली, पनवेल और तलोजा जैसे जैसे क्षेत्रों में डेंगू और मलेरिया के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इन इलाकों में सबसे ज्यादा प्रभावित है खारघर। यहां पर मच्छर बड़ी तादाद में पैदा हो रहे हैं। हालांकि, महानगरपालिका अधिकारियों का मानना है कि स्थिति नियंत्रण में है और शहर के अस्पतालों से डेंगू और मलेरिया के मामलों में बढ़ने की कोई सूचना नहीं मिली है।
खारघर, तलोजा जैसे इलाके में बड़े पैमाने पर निर्माण और खदान के कारण गड्ढों में जमा जल और पानी की खुली टंकियां मच्छरोंं के ब्रीडिंग पॉइंट का काम कर रही हैं। स्थानीय निवासी निखिल टांडेल बताते हैं कि मच्छरों की ब्रीडिंग को रोकने के लिए म्युनिसिपैलिटी कोई कदम नहीं उठा रही है। क्या वह चाहते हैं कि जब अस्पताल मलेरिया और डेंगू के मरीजों से भर जाएगा और स्थिति गंभीर हो जाएगी, तब उनकी नींद खुलेगी। कामोठे निवासी रोहिणी पाटील बताती हैं कि कुछ दिनों के लिए बारिश रुक जाने के बाद गड्ढ़ों में पानी जमा हो जाता है, जिसमें मच्छर पैदा होने लगते हैं। घर की साफ-सफाई का ख्याल तो हम रख सकते हैं, लेकिन बाहर की साफ-सफाई कार्पोरेशन के जिम्मे है, उन्हें अपना काम गंभीरता से करना चाहिए और फागिंग जरूर करनी चाहिए।
पीएमसी के एक अधिकारी का कहना है कि महानगरपालिका की तरफ से निवासियों से कहा गया है कि वे अपने आस-पास साफ-सफाई रखें और बर्तनों और बाल्टियों में पानी जमा करने से बचें, जो मच्छरों के लिए ब्रीडिंग पॉइंट हैं। विशेषकर साफ पानी में डेंगू के मच्छर पनपते हैं। पीएमसी के डिप्टी म्युनिसिपल कमिश्नर सचिन पवार के अनुसार, शहर में डेंगू और मलेरिया के बढ़ते मामले सामने नहीं आए हैं। बावजूद, हम शहर मलेरिया को रोकने के लिए सारे एहतियातन कदम उठा रहे हैं। फागिंग की जा रही है, लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों से एक बार फिर सारे रिकॉर्ड मंगाए जाएंगे।

अन्य समाचार

लालमलाल!