मुख्यपृष्ठविश्वतेहरान मेट्रो स्टेशन पर सुरक्षाबलों ने की फायरिंग ... ईरान में हिजाब...

तेहरान मेट्रो स्टेशन पर सुरक्षाबलों ने की फायरिंग … ईरान में हिजाब विद्रोहियों को ढूंढ़ रही पुलिस!

• हिजाब नहीं पहनी महिलाओं की जमकर की पिटाई

एजेंसी / तेहरान
ईरान में हिजाब के खिलाफ प्रदर्शन जारी है। इस बीच सुरक्षा बलों ने तेहरान के मैट्रो स्टेशन पर मौजूद लोगों पर गोलियां बरसाए। रिपोर्ट के मुताबिक स्टेशन पर मौजूद लोगों में ऐसी महिलाएं भी शामिल हैं जिन्होंने हिजाब नहीं पहनी हुई थीं।
वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि मेट्रो स्टेशन पर मौजूद भीड़ पर अचानक फायरिंग शुरू हुई, जिसके बाद वहां भगदड़ का माहौल बन गया। लोग एक-दूसरे के ऊपर गिरने लग गए। वहीं एक वीडियो में दावा किया गया है कि बिना यूनिफॉर्म के यानी सादे कपड़ों में मौजूद पुलिस ने हिजाब नहीं पहनी महिलाओं के साथ मार-पीट शुरू कर दी। उन पर गोलियां भी चलाई गर्इं। फायरिंग के बाद भगदड़ मच गई। इसमें कई लोग एक-दूसरे के ऊपर गिरने लगे। कई लोगों के घायल होने की खबर है। ईरान में २२ साल की युवती महसा अमिनी की मौत के बाद से प्रदर्शन हो रहे हैं। महसा को पुलिस ने १३ सितंबर को हिजाब नहीं पहनने पर गिरफ्तार किया था। १६ सितंबर को पुलिस कस्टडी में उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद लोग सड़कों पर उतर आए और हिजाब के मेंडेटरी होने का विरोध करने लगे। एक्टिविस्ट्स का कहना है कि विरोध प्रदर्शन में अब तक ३४४ लोगों की मौत हो गई है। इसमें कई यंगस्टर्स भी शामिल हैं। करीब १५,८२० लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

ईरान में तख्तापलट की बढ़ी आशंका
ईरान में तख्तापलट की अशंका तेज हो गई है। ऐसे में ईरानी सेना रेवल्युशनरी गार्ड्स के टॉप कमांडरों ने अपने परिवारों को वैंâट के इलाकों से सेफ हाउस में भेज दिया है। तेहरान में एक ऑयल कंपनी के गेस्ट हाउस में इन परिवारों को चौबीसों घंटे सुरक्षा मुहैया कराई जा रही है। सूत्रों के अनुसार इन परिवारों को भरोसा दिया गया है कि प्रदर्शन जारी रहते हैं अथवा तख्तापलट होता है तो इन्हें सुरक्षित रूप से पड़ोसी देश जॉर्जिया भेज दिया जाएगा। ईरान में वैसे तो हिजाब को १९७९ में मेंडेटरी किया गया था लेकिन १५ अगस्त को प्रेसिडेंट इब्राहिम रईसी ने एक ऑर्डर पर साइन किए और इसे ड्रेस कोड के तौर पर सख्ती से लागू करने को कहा गया। १९७९ से पहले शाह पहलवी के शासन में महिलाओं के कपड़ों के मामले में ईरान काफी आजाद ख्याल था।

ईरान उन देशों में एक है जहां इस्लामिक हिजाब पहनना महिलाओं के लिए अनिवार्य है। ईरानी महिलाओं ने देशभर में एंटी हिजाब वैंâपेन चलाया और बिना हिजाब की वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। ऐसा करके महिलाओं ने इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान के सख्त हिजाब नियमों को तोड़ा। इसके लिए सोशल मीडिया पर टैग भी चलाया गया।​​​

अन्य समाचार