मुख्यपृष्ठसमाचारहनुमान चालीसा पाठ में न हो राजनीति! .... हनुमानगढ़ी के संत संजय...

हनुमान चालीसा पाठ में न हो राजनीति! …. हनुमानगढ़ी के संत संजय दास ने उठाई आवाज

सामना संवाददाता / अयोध्या । संकटमोचन सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष व हनुमानगढ़ी के संत संजय दास ने महाराष्ट्र में निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के हनुमान चालीसा विवाद पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। संत संजय दास का कहना है कि हनुमान चालीसा के पवित्र पाठ में राजनीति नहीं की जानी चाहिए। हनुमान चालीसा का पाठ मंदिरों में और घरों में किया जाता है। इसे लेकर राजनीति करना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि हनुमान जी भक्तों में व्याप्त हैं। हनुमानजी की पाठ-पूजा सार्वजनिक जगह पर नहीं की जानी चाहिए। नवनीत राणा सांसद हैं और उनके पति रवि राणा विधायक हैं। ये दोनों जनप्रतिनिधि हैं इनको सोच-समझकर काम को करना चाहिए। रही बात सांसद नवनीत राणा के आरोपों की तो उसकी जांच कर सही और गलत क्या है सामने आना चाहिए। दूसरी ओर पटना के सिद्ध महावीर मंदिर के ट्रस्टी पूर्व आईपीएस किशोर कुणाल का कहना है कि हनुमान चालीसा को लेकर राजनीति करना उचित नहीं है। हनुमान चालीसा का वाचन हमेशा मंदिरों और घरों में किया जाता रहा है। हनुमान चालीसा की रचना देश की सबसे लोकप्रिय हनुमानजी की रचना है। यह काव्य के साथ-साथ मंत्र शक्ति है। इसके प्रति भक्तों की अपार श्रद्धा है। ऐसे में हनुमान चालीसा मंदिरों में, घरों में व हृदय में होना चाहिए, लेकिन इस पर राजनीति करना ठीक नहीं है।

अन्य समाचार