मुख्यपृष्ठनए समाचारपुंछ आतंकी हमला: उत्तरी कमान के सेनाप्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी घटनास्थल...

पुंछ आतंकी हमला: उत्तरी कमान के सेनाप्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी घटनास्थल पर पहुंचे

 आतंकियों के खात्मे की बनी रणनीति

जम्मू। पुंछ आतंकी हमले के बाद उत्तरी कमान के सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने घटनास्थल का दौरा किया। उन्होंने आतंकी हमले से जुड़ी सभी जानकारियों के बारे में विस्तार से जाना। अधिकारियों ने उन्हें बीस अप्रैल से लेकर अब तक की कार्रवाईयों के बारे में बताया। द्विवेदी ने अफसरों को हमले का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए विशेष रणनीति अपनाने को कहा। जीओसी दिवेदी ने शनिवार को भाटादूडियां इलाके में पहुंचे थे। इससे पहले सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक डॉ. एसएल थाउसेन ने जम्मू व राजोरी मुख्यालय का दौरा किया।

उनके साथ एडीजी (पश्चिमी कमान) पीवी रामा शास्त्री, आईजी डीके बूरा मौजूद रहे। डीजी को अधिकारियों ने एलओसी समेत संभाग की सुरक्षा व्यवस्था की विस्तृत जानकारी दी। इसके अलावा बीएसएफ की तरफ से सीमा समेत अन्य इलाकों में चलाए जा रहे ऑपरेशन और अन्य रणनीति के बारे में भी बताया।
थाउसेन से राजोरी और पुंछ में तैनात पुलिस और एजेंसियों के अधिकारियों के साथ बैठक कर सुरक्षा संबंधी चर्चा भी की। उन्होंने जवानों से मुलाकात कर उन्हें और सतर्कता से ड्यूटी करने को कहा। उधर, पुंछ में सैन्य वाहन पर हमला सीमा पार से आए आतंकियों ने किया था।

सूत्रों के अनुसार जिस बर्बरता से हमला किया गया, वह आतंकियों के फिदायीन और पाकिस्तानी होने का इशारा कर रहा है। आतंकियों ने वीरवार को हुए हमले को घात लगाकर दोनों ओर से गोलियां बरसाते हुए अंजाम दिया गया था।
एक आतंकी ने सामने से आकर सैन्य वाहन को रोका, जबकि दूसरी तरफ से बाकी आतंकियों ने गोलियां बरसाईं। इसके बाद ग्रेनेड दागे गए। दहशतगर्द मात्र 10 मिनट में हमले को अंजाम देकर फरार हो गए। सेना ने शुरुआती जांच में वाहन के दोनों तरफ गोलियों के कई निशान पाए हैं।

सेना और सुरक्षा एजेंसियों को राजोरी-पुंछ सेक्टर में दो समूहों में सक्रिय 6-7 आतंकियों की मौजूदगी का इनपुट मिला है। इनकी तलाश में सेना तथा पुलिस ने 12 किलोमीटर के दायरे में शनिवार को भी भाटादूड़ियां जंगल को घेरे रखा।
खोजी कुत्ते, ड्रोन और हेलिकॉप्टर से तलाशी ली जा रही हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी की टीम ने भी सबूत जुटाए। बम निरोधक दस्ता व एसओजी की टीम भी जांच में जुटी है। सूत्रों के अनुसार, बरामद सबूतों को एफएसएल तथा फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है।

अन्य समाचार