मुख्यपृष्ठनए समाचारगरीबों के सैंटा क्लॉज `हैलिफैक्स ब्रदर्स'! ... क्रिसमस पर देते हैं खुशियों...

गरीबों के सैंटा क्लॉज `हैलिफैक्स ब्रदर्स’! … क्रिसमस पर देते हैं खुशियों का अनोखा गिफ्ट

मनमोहन सिंह
कनाडा के वेस्ट एंड प्रोविंस का एक शानदार इलाका हैलिपैâक्स। हैलिपैâक्स में लाइन से शानदार कोठियां सजी हुई हैं। जाहिर है, क्रिसमस का त्योहार मनाया जा रहा है। लेकिन हैलिपैâक्स दो कोठियों की सजावट के लिए मशहूर है। क्रिसमस से कई हफ्तों पहले ये दोनों कोठियां रंग-बिरंगे बल्बों, रंग-बिरंगी डिजिटल डिस्प्ले और क्रिसमस ट्री से अनोखे अंदाज में सज जाती है। उन दोनों कोठियों को देखने के लिए सारा हैलिपैâक्स उमड़ पड़ता है। हैलिपैâक्स ही नहीं आस-पास के इलाकों से भी लोग अनूठे जगमगाते कलाकृतियों को देखने आते हैं।
इस अनूठे सजावट के साथ जो एक नुमायाँ जुड़ा है, वो सुकून देने वाला है। यहां पर दो क्यूआर कोड भी लगे हुए हैं, जो एक एनजीओ `एसओएस’ के हैं। यहां पर आने वाले दर्शक इस क्यूआर कोड के जरिए अच्छे-खासे पैसे डोनेट करते हैं। ये पैसे उस इलाके के गरीब बच्चों के काम आते हैं। इस डोनेशन से उन बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और खाने-पीने का इंतजाम हो जाता है। आखिर त्योहार भी तो इसी उद्देश्य से मनाए जाते हैं, ताकि इससे समाज के लोगों की जिंदगी में खुशहाली आए। यह काम बखूबी इन दो शानदार कोठियों के मालिक कर रहे हैं, जिनका नाम है जियाकोमांटोनियो ब्रदर्स कार्मन और निक जियाकोमांटोनियो। पेशे से दोनों डॉक्टर हैं और उन्होंने अपनी मां की खुशी के लिए कोठियों को सजाना शुरू किया।
केप ब्रेटन में पले-बढ़े जियाकोमांटोनियो के माता-पिता को घर सजाने का बड़ा शौक था। जब सिडनी में सिविक बॉडीज क्रिसमस के दौरान सजावट प्रतियोगिता का आयोजन किया करती थीं, तब दोनों अपने माता-पिता के कहने पर क्रिसमस में घरों को सजाया करते थे। जब वे वेस्ट एंड प्रोविंस के हैलिपैâक्स रहने आए तो उन्होंने अपनी-अपनी कोठियों को सजाना शुरू कर दिया और देखते ही देखते `हैलिपैâक्स ब्रदर्स’ के नाम से फेमस हो गए। लगभग दो दशकों से हैलिपैâक्स में कनॉट एवेन्यू के एक ब्लॉक को बुक करने वाले दो घरों में शहर में सबसे अधिक देखी जाने वाली क्रिसमस लाइट डिस्प्ले में से एक है। हर साल, भाई कार्मन और निक जियाकोमांटोनियो, जो मूल रूप से केप ब्रेटन के व्हिटनी पियर के रहने वाले हैं ने प्रदर्शन पर एक साथ काम किया है।

`त्योहार मनाने का हर एक का अपना अलग तरीका होता है। कोई त्योहार खुद की खुशी के लिए तो कोई दूसरे की खुशियों में ही खुशियां ढूंढता है। इन त्योहारों पर गरीब, बेसहारों की अंधेर जिंदगी में रोशनी भरता है। हैलिपैâक्स ब्रदर्स जैसे ही तमाम नेकदिल इंसान मिल जाएंगे, जो किसी न किसी बहाने से बेरंगों की दुनिया में रंग भरने का काम करते हैं।’

अन्य समाचार