मुख्यपृष्ठनए समाचारउल्हासनगर में प्रकृति बंधन

उल्हासनगर में प्रकृति बंधन

सामना संवाददाता / उल्हासनगर
प्रकृति का हम पर बड़ा उपकार है। प्रकृति से प्रदूषण दूर करते हुए उसकी रक्षा करने की हम सबकी जिम्मेदारी है। उल्हासनगर के मशहूर कालानी कॉलेज में सैकड़ों विद्यार्थियों को प्रकृति की तरफ आकर्षित करनेवाले सात दिवसीय स्पर्धा का अयोजन किया गया। जिसमें सैकड़ों महाविद्यालय के बच्चों ने भाग लिया। मंगलवार की सुबह को शहीद दुनीचंद महाविद्यालय में लगाए गए वृक्ष को राखी बांधकर प्राकृतिक बंधन कार्यक्रम का समापन किया गया।

महाविद्यालय के प्रिंसिपल अमूल कदम ने बताया कि प्रकृति बिना किसी अपेक्षा, भेदभाव के हमें प्राण वायु सजीवों को आश्रय देना, बरसात होने में योगदान करती है। इस कारण प्रकृति की रक्षा हम सबका कर्तव्य है। जिस प्रकार से बहन राखी बांधती है। हम उसकी रक्षा का वचन देते हैं। इसी प्रकार से वृक्ष को रक्षा बांधकर उसकी रक्षा का संकल्प लिया गया। इस कार्यक्रम में कालानी कॉलेज के संस्थापक, उल्हासनगर के पूर्व विधायक पप्पू कालानी, कॉलेज की चेयरमैन श्रीमती विधि कार्या, उल्हासनगर महापालिका के अग्निशमन व सुरक्षा अधिकारी बालासाहेब नेटके, पूर्व नगरसेवक मनोज लासी, शिवाजी रगडे, उद्योगपति महेश आहूजा, एड. भरत शिवनानी इत्यादि मान्यवर उपस्थित थे।

अन्य समाचार