मुख्यपृष्ठनए समाचारदेश को एक मजबूत विकल्प देने की तैयारी; ‘न्याय व्यवस्था’ से इतनी...

देश को एक मजबूत विकल्प देने की तैयारी; ‘न्याय व्यवस्था’ से इतनी करीबी कैसे? ‘इसका निश्चित रूप से कुछ मतलब है’ : शरद पवार

  • शिंदे गुट पर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार का तंज

सामना संवाददाता / ठाणे
न्यायालय का पैâसला पांच साल तक नहीं आएगा। उसके बाद हम सत्ता में वापस आएंगे, ऐसा दावा करनेवाले बागी शिंदे गुट के विधायक भरत गोगावले पर राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने तंज कसते हुए कहा कि उनका न्यायिक संवाद बहुत बढ़िया है। मैंने न्याय संस्था के इतने करीब होने के बारे में कभी नहीं सुना। इसका निश्चित रूप से कुछ मतलब है। ऐसी टिप्पणी राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने शिंदे गुट पर की।
इस अवसर पर पवार ने कहा कि वेंâद्र की भाजपा सरकार ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स का इस्तेमाल कर संसदीय लोकतंत्र पर हमला कर रही है। इसके लिए हमने देश को एक मजबूत विकल्प देने की तैयारी शुरू कर दी है। शरद पवार ने कल से भाजपा सरकार के खिलाफ राज्यव्यापी दौरा शुरू कर दिया है। इसकी शुरुआत उन्होंने ठाणे से की है। उन्होंने पदाधिकारियों की बैठक से पहले पत्रकारों से बातचीत की। जब उनसे शिंदे समूह द्वारा संविधान पीठ के बारे में दिए गए बयान के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि राज्य में सत्ता संघर्ष अभी कोर्ट में है और कुछ लोग न्यायपालिका पर संदेह कर रहे हैं। ऐसा नहीं लगता है कि इस संबंध में निर्णय में अधिक समय लगेगा। क्योंकि जब वास्तविक सुनवाई शुरू होगी तो दो-तीन दिनों में ही इस मसले का समाधान हो जाएगा। पांच साल इंतजार करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। गैर भाजपा सरकार गिराने की साजिश, भाजपा के अच्छे दिन के नारों, महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार को लेकर शरद पवार ने वेंâद्र और राज्य सरकारों को कड़े शब्दों में सुनाते हुए उन्होंने कहा कि जिस राज्य में भाजपा की सरकार नहीं है, वहां बदले की राजनीति हो रही है। कर्नाटक में भाजपा की कोई सरकार नहीं थी, उसे गिराया गया। महाराष्ट्र में भी उद्धव ठाकरे की पार्टी से कुछ लोगो को तोड़कर भाजपा ने अपनी सरकार बना ली। जनता द्वारा चुने हुए विधायकों को ठगने का खेल और समय आने पर ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग कर धमकाने का खेल भाजपा ने शुरू कर दिया है। इन शब्दों में संसदीय लोकतंत्र पर हमला होने का आरोप शरद पवार ने लगाया। उन्होंने कहा कि २०१४ से वेंâद्र की मोदी सरकार अच्छे दिनों का एलान कर चुकी है। उन्होंने सभी को घर, २४ घंटे बिजली, हर घर में शौचालय, डिजिटल इंडिया जैसे कई वादे किए। अब न्यू इंडिया २०-२० का वादा किया गया है, लेकिन उनमें से कोई भी आश्वासन पूरा नहीं हुआ है।
एसी लोकल बंद होनी ही चाहिए
कुछ दिनों पहले यात्रियों ने दैनिक लोकल ट्रेनों को रद्द कर कुछ नई एसी लोकलों के चलाने पर विरोध किया था। शरद पवार ने लोगों का समर्थन करते हुए कहा कि सिर्पâ एक-दो एसी लोकल को रद्द करने से यह समस्या हल नहीं होगी। इन ट्रेनों को रद्द किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि वह इस संबंध में रेल मंत्री के साथ बैठक करेंगे।

 

अन्य समाचार