मुख्यपृष्ठसमाचारपैरोल पर छूटे कैदी लापता! ३५७ के खिलाफ हुई एफआईआर

पैरोल पर छूटे कैदी लापता! ३५७ के खिलाफ हुई एफआईआर

महाराष्ट्र की जेल में बंद अपराधियों ने कोरोना महामारी का फायदा उठाया है। कोरोना महामारी के दौरान आपातकालीन पैरोल पर रिहा किए गए ४५१ अपराधी राज्य सरकार द्वारा पिछले मई में एक आदेश जारी करने के बावजूद अभी तक जेल नहीं लौटे हैं। जेल प्रशासन ने पिछले सात महीनों में ऐसे फरार दोषियों के खिलाफ ३५७ प्राथमिकी दर्ज की हैं। महामारी के दौरान राज्य ने जेलों में भीड़ कम करने के लिए विचाराधीन कैदियों और उन मामलों में दोषी ठहराए गए लोगों को रिहा करने का फैसला किया था, जिनकी अधिकतम सजा ७ साल या उससे कम थी। मार्च २०२० तक महाराष्ट्र की जेलों में ३५,००० से अधिक कैदी थे। रिपोर्ट के अनुसार कैदियों के रिहाई के बाद, ४,२३७ दोषियों सहित १४,७८० कैदी अंतरिम जमानत या आपातकालीन पैरोल पर बाहर चले गए। बाद में उन्हें उस जेल की बैरक में वापस जाने के लिए कहा गया, जिसमें वे पहले से थे।
पुलिस कर रही है कार्रवाई
रिपोर्ट के अनुसार जेल से अभी तक रिहा किए गए ४५१ अपराधी वापस नहीं आए हैं। इन लोगों पर ३५७ प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, अन्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई जारी है। अतिरिक्त डीजीपी (जेल) अमिताभ गुप्ता ने कहा कि हम संबंधित पुलिस इकाई कमांडरों के साथ संपर्क कर रहे हैं। एक अधिकारी ने कहा कि पुलिस लापता दोषियों का पता लगाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि इस तरह के कई दोषियों ने अपना पता बदल लिया है, जबकि कई अन्य घर पर नहीं हैं।

अन्य समाचार