" /> हाय-हाय ये मजबूरी!… प्रोफेसर बना ड्रग्स तस्कर

हाय-हाय ये मजबूरी!… प्रोफेसर बना ड्रग्स तस्कर

कहते हैं कि पैसों की जरूरत किसे नहीं होती, परंतु कुछ लोग अपराध करने के बाद हालात और जरूरतों की मजबूरी का रोना रोते हैं। एनसीबी मुंबई की टीम ने एक ऐसे ही मामले में एक शिक्षक को गिरफ्तार किया है। यह शिक्षक मादक पदार्थों की तस्करी करता था। उक्त शिक्षक मूल रूप से अप्रâीकी देश कैमरून का निवासी है और वह खाड़ी देश के एक कॉलेज में जीव विज्ञान का प्रोफेसर था। लेकिन दूसरों को गलत काम से रोकने के अपने फर्ज को भूलकर वह मादक पदार्थों की तस्करी कर रहा था।

युवा देश के भविष्य माने जाते हैं लेकिन कुछ राष्ट्रद्रोही मोटी कमाई की लालच में मादक पदार्थों का कारोबार करते हैं और खासतौर पर युवा वर्ग उनके निशाने पर होता है। नशे के इन सौदागरों को रोकने के लिए मुंबई पुलिस और उसकी तमाम इकाइयों के साथ एनसीबी भी हर संभव प्रयास करती रही है। एनसीबी ने इसी तरह के प्रयासों के दौरान दुबई के प्रोफेसर को गिरफ्तार किया है, जो मुंबई में मादक पदार्थों की तस्करी कर कर रहा था।
बीमारी ने बनाया ड्रग्स तस्कर
दीबा ओलिवर नामक उक्त आरोपी ६ महीने पहले इलाज के लिए वीजा लेकर हिंदुस्थान आया था। उसे टीबी की बीमारी हो गई थी। मुंबई में इलाज के दौरान उसके पैसे खत्म हो गए। उसे इलाज व गुजारे के लिए और पैसों की जरूरत थी। वह नौकरी ढूंढ़ रहा था लेकिन अप्रâीकी नागरिक ऑनलाइन ठगी व मादक पदार्थों की तस्करी के मामलों में बड़ी संख्या में संलिप्तता के कारण कुख्यात हो गए हैं इसलिए किसी ने उस पर विश्वास नहीं किया और जरूरतों ने उसे एक नाइजेरियन ड्रग्स तस्कर के पास पहुंचा दिया। ड्रग्स तस्कर द्वारा दिखाए गए कमिशन के लालच में फंसकर वह मादक पदार्थों की बिक्री करने लगा। हाल ही में एनसीबी को उसके बारे में जानकारी मिली थी। जिसके बाद एनसीबी की टीम उस पर नजर रखने लगी। बुधवार को एनसीबी ने जाल बिछाकर उसे हिरासत में लिया। वह अंधेरी-पूर्व स्थित मरोल इलाके में एमडीएमए एक्सटीसी पिल्स नामक प्रतिबंधित औषधि बेचने आया था।
फोन पर लेता था ग्राहकों से ऑर्डर
एनसीबी की टीम को ओलिवर ने बताया कि वह पहले फोन पर ग्राहकों से ड्रग्स का ऑर्डर लेता था बाद में नाइजेरियन आपूर्तिकर्ता से ड्रग्स मंगाता था और उस ड्रग्स को ग्राहकों तक पहुंचाता था। ग्राहक से मिले पैसों में से अपना कमीशन काटकर बाकी पैसा वह ड्रग्स सप्लायर को दे देता था।