मुख्यपृष्ठअपराधबंगाल में बढ़ता देहव्यापार! ... एक लड़की को ढूंढ़ने गई पुलिस को...

बंगाल में बढ़ता देहव्यापार! … एक लड़की को ढूंढ़ने गई पुलिस को मिली ३५ लड़कियां

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई पुलिस को लापता लड़कियों ढूंढ़ने में बड़ी कामयाबी मिली है। मुंबई पुलिस हाल ही में अगवा कर पश्चिम बंगाल लाई गई एक १७ साल की नाबालिग लड़की को ढूंढ़ते हुए पश्चिम बंगाल पहुंची थी। पश्चिम बंगाल में देह व्यापार करवाने के लिए कुछ लोगों ने मुंबई में लड़की का अपहरण कर लिया था। इस लड़की की खोज में पश्चिम बंगाल पहुंची, धारावी पुलिस ने बताया कि शहर की एक १७ साल की लड़की का अपहरण कर उसे पश्चिम बंगाल में वेश्यावृत्ति में धकेल दिया गया था, जिसे बचा लिया गया है। एक अधिकारी ने बताया कि लड़की को अगवा किए जाने के मामले में शामिल होने के आरोप में बिहार के चंपारण से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
पुलिस के अनुसार, इस रेस्क्यू के साथ, धारावी पुलिस ने २०२३ के सभी लापता बच्चों के मामलों को सुलझा लिया है और ३५ लड़कियों को उनके माता-पिता से मिलवाया है, जो पहले गायब हो गई थीं। अधिकारी ने कहा कि वर्तमान मामले में लड़की सितंबर में अपने धारावी के घर से लापता हो गई थी। उसके पिता की शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया गया था। यह जानकारी मिलने के बाद कि वह पश्चिम बंगाल के पांजीपाड़ा में है, धारावी पुलिस की एक टीम बंगाल पहुंची और उसे एक वेश्यालय से बचाया। आरोपियों पर बलात्कार और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था।
एक अन्य मामले में एक १४ वर्ष की लड़की,जो अपना घर छोड़कर ट्रेन से पटना जा रही थी, उसे भी रोक लिया गया और उसके माता-पिता से मिला दिया गया। गुरुवार को अपहरण की शिकायत दर्ज करने के बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की जांच की और पाया कि लड़की लोकमान्य तिलक टर्मिनस से पटना के लिए ट्रेन में बैठी थी। अधिकारी ने बताया कि इसके बाद मुंबई पुलिस ने राजकीय रेलवे पुलिस और संभाजीनगर पुलिस को सतर्क किया और लड़की को रावेर रेलवे स्टेशन पर हिरासत में लेते हुए वापस शहर लाया गया।

अन्य समाचार