मुख्यपृष्ठनए समाचारजनता सब जानती है तेलंगाना में कांग्रेस की जीत पर बोले रेवंत...

जनता सब जानती है तेलंगाना में कांग्रेस की जीत पर बोले रेवंत रेड्डी

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

२०२३ के तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को भारी बहुमत मिला है। कांग्रेस पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने जा रही है। इसको लेकर तेलंगाना कांग्रेस पार्टी के अध्‍यक्ष रेवंत रेड्डी ने कहा कि राज्य में पार्टी को जो जनादेश मिला है। उसकी वजह से जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने की हमारी जिम्मेदारी बढ़ गई है। हम विधानसभा चुनाव में इस जीत को तेलंगाना के शहीदों को समर्पित करते हैं। पार्टी की जीत से गदगद दिखे रेड्डी ने साफ किया कि जनता जानती है कि उसको कब और वैâसे जवाब देना है। रेड्डी ने कहा, `हम तेलंगाना में सरकार बनाने जा रहे हैं। तेलंगाना के लोगों का साथ मिला है। सोनिया गांधी ने जिस मकसद से तेलंगाना दिया था और जो मेंडेट मिला है उसमें पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष मल्‍ल‍िकार्जुन खरगे, पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी सभी की अहम भूमिका रही है।’ इसके साथ ही उन्‍होंने चुनाव प्रचार करने वाले सभी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के प्रति आभार भी जताया। उन्‍होंने पार्टी हाई कमान को धन्यवाद देते हुए कहा कि तेलंगाना की जनता ने जब जरूरत थी तब सही तरीके से सही जवाब दिया है। इस बार जनता ने कांग्रेस की सरकार बनाई है। यहां शहीद नेताओं की व‍िचारधारा को लेकर आगे जाएंगे। उन्‍होंने जो वादा किया, उन सभी की विचारधारा को आगे लाकर तेलंगाना के व‍िकास के लिए काम किया जाएगा।

भारतीय मूल के रेडियो होस्ट पर ४० वार करनेवाले ३ खालिस्तानी
दोषी करार!

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

न्यूजीलैंड में तीन खालिस्तान कट्टरपंथियों को हत्या की कोशिश के मामले में दोषी करार दिया गया है। यह घटना २३ दिसंबर २०२० की है, जब हरनेक सिंह नाम के रेडियो होस्ट पर जानलेवा हमला किया गया था। घटना के वक्त पीड़ित ड्राइव कर रहा था और धार्मिक कट्टरपंथियों के समूह ने उस पर हमला कर दिया। कट्टरपंथियों ने उस पर ४० वार किए थे, जिसके लिए सर्जरी के वक्त करीब ३५० स्टिच लगाने प़ड़े थे। बता दें कि न्यूजीलैंड की कोर्ट ने हत्या की कोशिश के मालमे में २७ वर्षीय सर्वजीत सिंह, ४४ वर्षीय सुखप्रीत सिंह और एक ४८ वर्षीय व्यक्ति को दोषी करार दिया है। जजमेंट में पाया गया है कि तीनों ने मिलकर प्लानिंग के साथ यह हमला किया था। यह हमला इसलिए किया गया था क्योंकि हरनेक सिंह ने अपने रेडियो प्रोग्राम के दौरान अलगावादी गुटों का विरोध किया था। सुनवाई के दौरान जज मार्वâ वुलफोर्ड ने कम्यूनिटी प्रोटेक्शन और धार्मिक कट्टरता की बातों को गहराई के साथ समझा और हर बिंदु पर सोच समझ के बाद यह पैâसला सुनाया है।

२०२० में की गई थी हत्या की कोशिश

२३ दिसंबर २०२० को हरनेक सिंह पर घात लगाकर हमला किया गया था। यह हमला इतना घातक था कि आरोपियों ने करीब ४० वार किए थे। पीड़ित को सर्जरी के दौरान करीब ३५० टांके लगाए गए ताकि जान बचाई जा सके। जज ने कहा कि इस तरह का हमला बताता है कि ये धर्मांधता में कितने लीन हैं। बता दें कि हरनेक सिंह को नेक्की के नाम से जाना जाता है। हरनेक की किसी तरह से जान बच पाई थी।

अन्य समाचार