मुख्यपृष्ठटॉप समाचारफडणवीस के दावों का सरकारी वकील ने किया खंडन... वीडियो के दृश्य...

फडणवीस के दावों का सरकारी वकील ने किया खंडन… वीडियो के दृश्य और आवाज में मेल नहीं!

• क्लिप में की गई है छेड़छाड़
•  स्टिंग का निकला जलगांव कनेक्शन
•  दीवार घड़ी में लगा था हिडेन वैâमरा

सामना संवाददाता / मुंबई
नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस और भाजपा के कुछ नेताओं को झूठे अपराध में फंसाने का आरोप लगाकर विधानसभा में हड़कंप मचा दिया था, परंतु उनके द्वारा पेश किए गए वीडियो बम फुस्की निकल गए हैं। अब इस मामले में फडणवीस द्वारा किए गए दावों का खंडन करते हुए मुंबई हाईकोर्ट के विशेष सरकारी वकील प्रवीण चव्हाण ने एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने वीडियो क्लिप में दिखाए गए दृश्य और आवाज में छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया है। उन्होंने दावे के साथ कहा है कि वीडियो के दृश्य और आवाज में मेल नहीं। प्रवीण चव्हाण ने फडणवीस की वीडियो क्लिप की पूरी जांच कराने की मांग की है।
सरकारी वकील चव्हाण ने आरोप लगाया कि मूलरूप से जलगांव का रहनेवाला तेजस मोरे नामक व्यक्ति उनके पास अग्रिम जमानत के सिलसिले में आता था। उसने यह स्टिंग ऑपरेशन किया था। इस स्टिंग का जलगांव कनेक्शन है। प्रवीण चव्हाण के अनुसार तेजस मोरे की रिकॉर्डिंग में छेड़छाड़ की गई है। वीडियो और ऑडियो अलग-अलग हैं। अधिकांश क्लिप में आधे वाक्य हैं। मेरे कार्यालय में आकर, तेजस मोरे ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया। उसने मुझे एक दीवार घड़ी भेंटस्वरूप दी थी। यह घड़ी मेरे ऑफिस में शीशे की दीवार पर लगाई गई थी। घड़ी में हिडन वैâमरा लगाया गया था। तेजस मोरे एक अपराध के सिलसिले में जमानत के लिए मेरे पास आता रहता था।

प्रवीण चव्हाण के अनुसार मेरी रिकॉर्डिंग मैनिप्यूलेट कर उसका उपयोग किया गया। तेजस मोरे ने स्टिंग ऑपरेशन किया है। प्रवीण चव्हाण ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि तेजस मोरे को कई लोगों का सपोर्ट है। मेरे द्वारा चलाए जा रहे केस में जो आरोपी जेल में हैं, वे भी मोरे के साथ हैं। मैंने किसी का नाम नहीं लिया है और इसकी जांच होनी चाहिए।
तेजस मोरे पर दर्ज है हफ्ता उगाही का मामला
जलगांव के रहनेवाले तेजस मोरे पर हफ्ता उगाही का मामला दर्ज है। जलगांव शहर पुलिस स्टेशन में वर्ष २०१९ में तेजस पर वसूली का अपराध दर्ज किया गया था। इस मामले में उसे गिरफ्तार किया गया था। इस मामले की चार्जशीट जलगांव जिला कोर्ट में दाखिल की गई थी। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक डॉ. प्रवीण मुंढे ने दी है।

अन्य समाचार