मुख्यपृष्ठसमाचारवसूलीबाज पुलिसकर्मियों पर गिरी गाज

वसूलीबाज पुलिसकर्मियों पर गिरी गाज

सामना संवाददाता / ठाणे

विभिन्न तरह की कमियां बताकर वाहन चालकों से वसूली करने के आरोप में मुंब्रा विभाग के ४० पुलिस कर्मचारियों पर पुलिस आयुक्त की गाज गिरी है। सभी पुलिसकर्मियों को एक ही साथ मुख्यालय से अटैच कर दिया गया है। आयुक्त आशुतोष डुंबरे की इस कार्रवाई से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। एक वीडियो वायरल होने के बाद लिए गए इस एक्शन की जानकारी पुलिस आयुक्तालय की एक प्रेस विज्ञप्ति में दी गई है। विभिन्न राज्यों के मालवाहक ट्रक नई मुंबई से कल्याण फाटा, शिलफाटा होते हुए मुंब्रा बायपास मार्ग से आते जाते हैं। भारी माल वाहक वाहनों के लगातार आवागमन होने के कारण यह सड़क अक्सर जाम रहती है। बाहर से आने वाले माल वाहक वाहन चालकों से मौके पर तैनात यातायात पुलिसकर्मियों द्वारा अवैध रूप से वसूली की जाती है, इसकी वजह से यातायात जाम होता है, यह शिकायत स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार की जाती रही है। १६ फरवरी को इसी मामले से संबंधित एक वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हुआ था, जिसमें यातायात पुलिसकर्मी वाहन चालकों से अवैध रूप से वसूली करते हुए दिखाई दे रहे थे।
भर्ती हुए ९९६ नए पुलिसकर्मी
मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस आयुक्तालय ने नई पुलिस भर्ती की थी, जिन्हें भर्ती के बाद ट्रेनिंग के लिए भेजा गया था। उनकी ट्रेनिंग अब पूरी हो चुकी है इसलिए नवनियुक्त ९९६ पुलिसकर्मी दो से तीन दिन में पुलिस कमिश्नरेट ज्वाइन करेंगे। संख्याबल में पुलिस की जो कमी महसूस हो रही थी, वह अब काफी हद तक पूरी होती दिख रही है। पुलिसकर्मियों की भर्तियों से अब यह सवाल भी उठ रहे हैं कि क्या अब मीरा-भायंदर इलाके में अपराध पर अंकुश लग पाएगा? बता दें कि ठाणे और पालघर दो जिले के ग्रामीण पुलिस से अलग कर मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस आयुक्तालय की स्थापना २०२० में की गई थी। जिसका उद्घाटन तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हाथों हुआ था। पुलिस आयुक्त मधुकर पांडे ने जानकारी दी है कि मीरा-भायंदर, वसई-विरार पुलिस कमिश्नरेट के बेड़े में ९९६ नये पुलिसकर्मियों के मिलने से मैनपॉवर की संख्या बढ़ जाएगी।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा