मुख्यपृष्ठसमाचारसवाल हमारे, जवाब आपके!

सवाल हमारे, जवाब आपके!

भाजपा की फूट डालो, राज करो की नीति की वजह से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पार्टी से गठबंधन तोड़ लिया। मतलब साफ है कि भाजपा अपने सहयोगियों को कमजोर करने के लिए हर हथकंड़ा अपना रही है।

• समाप्त करने की रणनीति
भाजपा से जिस पार्टी ने गठबंधन किया उन सभी पार्टियों को कमजोर या समाप्त करने की रणनीति भाजपा करती रही है। पंजाब में अकाली दल को कमजोर किया। अब बिहार में नीतीश की पार्टी को कमजोर करने जा रहे थे तो स्थिति को भांपते हुए नीतीश कुमार ने भाजपा से गठबंधन अर्थात नाता तोड़ लिया।
-कल्याणी किरण पाटील (एडवोकेट), नालासोपारा

• जान गए नीतीश
जिस प्रकार से बड़े पेड़ अपने नीचे दूसरे पेड़ों को नहीं उगने देते, उसी सिद्धांत पर भाजपा चल रही है। भाजपा अपने छोटे सहयोगियों को समाप्त कर अपना साम्राज्य स्थापित करने में लगी है। ये जानकर पहले ही बिहार की नीतीश कुमार की सरकार ने गठबंधन अर्थात नाता ही तोड़ लिया।
-कमलेश दुबे, उल्हासनगर

• …गला दबाने की नीति
भाजपा की स्वार्थी नीति को नीतीश कुमार ने समय रहते भांप लिया। नीतीश को इस बात का एहसास हो चुका था कि भाजपा के साथ अगर और कुछ दिनों सत्ता में रहे तो जदयू को बड़ा नुकसान कर देगी, गले लगाकर गला दबाने की नीति का अंदाजा नीतीश को हो गया था। नीतीश ने भाजपा वालों की चाणक्यगीरी निकाल दी।
-आजाद झा, पटना

• असलियत सामने आई
भाजपा की फूट डालो राज करो की ही नीति का परिणाम है कि पंजाब में अकाली दल कमजोर हुआ। अब बिहार में नीतीश के साथ भी वही किया और नीतीश कुमार ने स्थिति को भांपते हुए गठबंधन तोड़ लिया। अब पूरे देशवासियों को भाजपा की असलियत और उसके हथकंडों का पता धीरे-धीरे चल गया है।
-मनोज उपाध्याय, वडाला

• पतन का कारण बनेगी
अपने सहयोगी दलों को कमजोर करने की भाजपा की कुनीति से सबक लेते हुए नीतीश कुमार समय पर सचेत हो गए और मोदी-शाह की रणनीति को बिहार में सफल नहीं होने दिया। जनता द्वारा चुनी हुई स्थिर सरकारों में अस्थिरता पैदा कर सत्ता के मद में सत्ता भोगने की नीति ही भाजपा के पतन का कारण बनेगी।
-सुभाष पांडे, भायंदर

• एकला चलो की नीति
भारतीय जनता पार्टी की नीति एकला चलो वाली नीति है, जिसके चलते बिहार में नीतीश कुमार को मजबूरीवश अलग होने का निर्णय लेना पड़ा। अब भाजपा बिहार में कुशासन का विधवा विलाप कर रही है।
-प्रत्युष कुमार, डोंबिवली

आज का सवाल?
आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत पीएम नरेंद्र मोदी ने तिरंगे के सम्मान में हर घर तिरंगा फहराने का फरमान तो जारी कर दिया। लेकिन १५ अगस्त के बाद सड़कों पर कचरे के रूप में तिरंगा मिलेगा, वो सम्मान होगा या अपमान और उसका कौन जिम्मेदार होगा?
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार