मुख्यपृष्ठसमाचारसाई दरबार में राड़ा! शिर्डी मंदिर में फूल, हार, नारियल प्रतिबंध के...

साई दरबार में राड़ा! शिर्डी मंदिर में फूल, हार, नारियल प्रतिबंध के खिलाफ विक्रेताओं का आक्रोश

सामना संवाददाता / शिर्डी
शिर्डी के साई मंदिर में फूल, हार, नारियल ले जाने की कोशिश कर रहे हार-फूल विक्रेताओं, व्यावसायियों और सुरक्षा गार्डों के बीच कल भीषण हाथापाई हो गई। साई मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं के मंदिर में हार-फूल और प्रसाद लेकर प्रवेश पर रोक लगा दी है। इसके लिए पिछले पांच दिनों से जारी अनशन को लेकर प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं दिए जाने पर आज आक्रोश देखने को मिला। शिर्डी साई मंदिर प्रशासन ने हार-फूल पर प्रतिबंध लगाया हुआ है, जिसे हटाने की मांग करते हुए शिर्डी के कार्यकर्ता दिगंबर कोटे पिछले पांच दिनों से अनशन पर हैं। उनके आंदोलन को हार-फूल बेचनेवाले विक्रेताओं ने समर्थन दिया है लेकिन इस पर ध्यान नहीं देने से गुस्साए प्रदर्शनकारियों और विक्रेताओं ने कल साई मंदिर में हार और फूल ले जाने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षा गार्डों ने उन्हें रोक लिया। इस दौरान आक्रमक विक्रेताओं और सुरक्षा गार्डों के बीच जमकर झड़प हुई। अपने साथ फूल लेकर कोपरगांव के संजय काले ने १८ किलोमीटर का सफर तय करके मंदिर तक पहुंचने की कोशिश की लेकिन पुलिस और सुरक्षा गार्डों ने उन्हें भी फूल ले जाने से रोक दिया।
किसानों और व्यावसायियों पर संकट
शिर्डी क्षेत्र के सैकड़ों किसान पिछले कई दशकों से फूलों की खेती में लगे हुए हैं, जबकि हजारों व्यावसायियों और मजदूरों की रोजी-रोटी हार-फूल और प्रसाद की बिक्री पर निर्भर है। हमारी रोजी-रोटी कैसे चलेगी, बच्चों का पालन-पोषण कैसे करेंगे? इस तरह का सवाल किसान कर रहे हैं। साई दर्शन करने आनेवाले भक्त भी इसलिए दुखी हैं, क्योंकि वे समाधि पर हार, फूल और प्रसाद नहीं चढ़ा सकते। साई भक्त पूछ रहे हैं कि यदि प्रदेश के सभी मंदिरों से कोरोना पाबंदियां हटा ली गई हैं तो शिर्डी में ही पाबंदी क्यों?

अन्य समाचार