मुख्यपृष्ठसमाचारअधर में अटका रेलवे का प्रोजेक्ट... मात्र ३५ फीसदी हुआ निर्माण

अधर में अटका रेलवे का प्रोजेक्ट… मात्र ३५ फीसदी हुआ निर्माण

• दीघा स्टेशन का काम भी अधूरा
•एरोली-कलवा एलिवेटेड कॉरीडोर
सामना संवाददाता / मुंबई । ठाणे स्टेशन के यात्रियों का भार हल्का करनेवाला और कल्याण से सीधे नई मुंबई को कनेक्ट करनेवाला एरोली-कलवा एलिवेटेड कॉरिडोर परियोजना पिछले पांच साल से अधर में अटकी है। इस परियोजना के अंतर्गत प्रभावित होनेवाले १,०८० परियोजना प्रभावित लोगों में से ८०० लोगों ने पुनर्वसन के लिए सहमति तो जता दी है लेकिन अन्य परियोजना प्रभावित लोगों ने विभिन्न कारणों से इंकार कर दिया है। ऐसे में परियोजना के कार्य को गति नहीं मिल रही है। इस लेट लतीफी के कारण इस परियोजना का महज ३५ फीसदी कार्य ही पूरा हो सका है।
बता दें कि कल्याण व सीएसएमटी की दिशा में जानेवाली लोकल ट्रेन ठाणे से होकर गुजरती है। इसके अलावा ठाणे स्टेशन से भी विशेष लोकल सेवाओं का परिचालन होता है। इस स्टेशन से ठाणे-पनवेल ट्रांस हार्बर सेवा का भी परिचालन होता है। ऐसे में ठाणे स्टेशन पर यात्रियों की अधिक भीड़ होती है। इसके अलावा कल्याण से नई मुंबई जानेवाले यात्रियों को ठाणे से ट्रांस हार्बर लोकल पकड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। इसलिए ठाणे में यात्रियों की भारी भीड़ होती है। इस भार को हल्का करने के लिए और कल्याण रेल मार्ग से नई मुंबई को जोड़ने के लिए कलवा-एरोली एलिवेटेड रेल मार्ग तैयार करने का निर्णय मुंबई रेलवे विकास निगम ने लिया है।
एमयूटीपी-३ परियोजना के अंतर्गत एरोली-कलवा परियोजना को दिसंबर २०१६ में मंजूरी मिली थी। भूमि अधिग्रहण, पुनर्वसन आदि कारणों से ये परियोजना आगे नहीं बढ़ रही है। इस परियोजना का फिलहाल ३५ फीसदी कार्य पूरा हो चुका है। इस परियोजना का खर्च ४७६ करोड़ रुपए है। इस परियोजना के लिए राज्य सरकार, केंद्र सरकार और निजी बैंकों से निधि उपलब्ध कराई जा रही है। मई तक इस परियोजना पर १६३ करोड़, ८१ लाख रुपए अब तक खर्च किए जा चुके हैं। इस परियोजना के अंतर्गत केवल दिघा स्टेशन का काम हो रहा है, जबकि अन्य काम अधर में ही अटके हुए हैं। इस मार्ग में परियोजना प्रभावित १,०८० लोगों को एमएमआरडीए ठाणे, कुर्ला, विक्रोली स्थित किराए पर घर देने का निर्णय लिया गया है। इनमें से ८०० लोगों ने सहमति जताई है। बाकी योजना प्रभावित लोगों ने विभिन्न कारणों से स्थानांतरित होने में अपनी असमर्थता जताई है।

 

अन्य समाचार