मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई में नहीं आएगी बरसाती बाढ़...पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे आज करेंगे सत्र...

मुंबई में नहीं आएगी बरसाती बाढ़…पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे आज करेंगे सत्र का उद्घाटन

•  दो दिवसीय चर्चा से निकलेगा हल
• विशेषज्ञों की उपस्थिति में होगी चर्चा

सामना संवाददाता / मुंबई । देश और दुनिया भर के शहर इन दिनों मुख्य रूप से जलवायु परिवर्तन और भौगोलिक बदलाव से उपजी विभिन्न विकट समस्याओं का सामना कर रहे हैं। मुंबई शहर को भी लगभग हर वर्ष भारी बारिश का कहर झेलना पड़ रहा है। इस समस्या के निवारण के लिए सहयाद्रि स्टेट गेस्ट हाउस में गुरुवार २८ से २९ अप्रैल २०२२ तक दो दिवसीय परिचर्चा सत्र का आयोजन किया गया है। मुंबई में बाढ़ के खतरे, उससे विभिन्न प्रभावों और संभावित उपायों पर चर्चा एवं मार्गदर्शन के लिए इस सत्र का आयोजन किया गया है।
राज्य के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे इस कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। इस मौके पर मनपा में अतिरिक्त आयुक्त पी. वेलरासु आदि लोग उपस्थित रहेंगे। राज्य के पूर्व मुख्य सचिव अजय मेहता एवं पूर्व मनपा आयुक्त जयराज फाटक इसका समापन करेंगे।
दो दिनों के कार्यक्रम का विवरण इस प्रकार
वर्ल्ड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट इंडिया के सहयोग से आयोजित दो दिवसीय चर्चा सत्र में पहले दिन मुंबई में बाढ़ प्रबंधन के लिए तकनीकी अपडेट, मुंबई में बाढ़ संभावित क्षेत्रों में संभावित खतरों का आकलन और बाढ़ की स्थितियों से निपटने के उपायों पर चर्चा होगी। दूसरे दिन मुंबई में बाढ़ प्रबंधन के लिए मनपा द्वारा की गई गतिविधियों, मुंबईकरों के अनुभव, बाढ़ रोकथाम उपायों और उपायों के लिए वित्तीय प्रावधान पर चर्चा होगी। इसके बाद समारोह का समापन होगा।
कौन-कौन होंगे शामिल?
यहां बाढ़ प्रबंधन, शहरी विकास, प्रशासन और संबंधित सेफ्टी क्षेत्र के विशेषज्ञ भाग लेंगे। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भारतीय मौसम विज्ञान संस्थान, राष्ट्रीय तटीय अनुसंधान केंद्र, पर्यावरण और वास्तुकला स्कूल, विश्व संसाधन संस्थान, टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, यूथ फॉर यूनिटी संस्थान, स्टूडियो पीओडी, डेल्टारस (नीदरलैंड), अर्बन सेंटर, कमला रहेजा विश्वविद्यालय संस्थान, पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय, सी ४० सिटी, एशियाई विकास बैंक जैसे विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों के विशेषज्ञ इन दो दिनों के चर्चा सत्र में मार्गदर्शन और विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।

अन्य समाचार