मुख्यपृष्ठनए समाचारमतदाताओं पर प्रलोभन की बारिश ... भरपूर फंड दूंगा, खचाखच वोट दो!...

मतदाताओं पर प्रलोभन की बारिश … भरपूर फंड दूंगा, खचाखच वोट दो! … अजीत पवार के बयान पर बवाल

 आचार संहिता का किया उल्लंघन
 रोहित पवार ने साधा निशाना
सामना संवाददाता / मुंबई
लोकसभा चुनाव के दिन करीब आते ही मतदाताओं पर प्रलोभन की बौछार होने लगी है। इस क्रम में राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कल एक चुनावी सभा में कहा कि वह जितना चाहें उतना फंड देंगे, लेकिन हर जगह उन्हें खचाखच वोट चाहिए। विधायक रोहित पवार ने इस बयान पर आपत्ति जताई और शिकायत की है कि यह आचार संहिता का उल्लंघन है।
इंदापुर में डॉक्टरों और वकीलों के एक सम्मेलन में बोलते हुए अजीत पवार ने कहा कि जो भी धन की आवश्यकता होगी, हम प्रदान करने में सहयोग करेंगे, जितना चाहिए हम उतना धन प्रदान करेंगे, लेकिन वोटिंग मशीन में बटन दबाओ, तो मुझे भी बेहतर लगेगा। उन्होंने यह भी धमकी दी कि अगर ऐसा नहीं किया तो मेरा हाथ थम जाएगा।
उन्होंने कहा कि मैं आपके जिले का संरक्षक मंत्री हूं। मैं राज्य का वित्त मंत्री हूं। हमलोग महागठबंधन में सरकार चला रहे हैं। मैंने राज्य के लिए कई काम किए। अब भी मैं काम के लिए ही सरकार में शामिल हुआ हूं। मैं सत्ता का भूखा व्यक्ति नहीं हूं। मैं कई वर्षों तक कई पदों पर रहा। पांच से छह बार उपमुख्यमंत्री का पद संभाल चुका हूं। मुझे नहीं लगता कि कोई मेरा रिकॉर्ड तोड़ पाएगा। छह बार उपमुख्यमंत्री बनने के लिए किसी को इतनी बार चुना जाना भी जरूरी है।
अजीत पवार के फंड देने वाले बयान पर एनसीपी (शरद चंद्र पवार) के विधायक रोहित पवार ने आपत्ति जताई है। रोहित पवार ने हैश टैग ‘मलीदा गैंग’ का इस्तेमाल किया है और सोशल मीडिया ‘एक्स’ के जरिए चुनाव आयोग से शिकायत की है।
इस पोस्ट में रोहित पवार का कहना है कि अजीतदादा ने मीटिंग में बोलते हुए फंड को लेकर बयान दिया था। दादा किस फंड की बात कर रहे हैं? इस पोस्ट में रोहित पवार ने हैशटैग मलीदा गैंग का इस्तेमाल किया है, क्या यह उनके दोस्त के पास मौजूद फंड के बारे में है जो ‘मालीदा गैंग’ का सदस्य है या सरकारी विकास फंड के बारे में है? चूंकि लोग समर्थन नहीं कर रहे हैं इसलिए अब फंड को धमकी देना नैतिकता का उल्लंघन है! उन्होंने राज्य निर्वाचन कार्यालय को टैग करते हुए शिकायत की है कि चुनाव आयोग को इस पर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए।

 

अन्य समाचार