मुख्यपृष्ठनए समाचारबारिश का पानी नहीं होगा बर्बाद!

बारिश का पानी नहीं होगा बर्बाद!

• वर्षा जल का होगा संचयन
• अधिकारियों और कर्मचारियों ने ली जल शपथ

सामना संवाददाता / मुंबई । मुंबई में बारिश का पानी बर्बाद होने से रोकने के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों ने जल शपथ ली है। इसके तहत मनपा मानसून के दौरान वर्षा जल संचयन पर विशेष फोकस करेगी। बता दें कि बारिश के पानी को जमीन में सींचने और इसके माध्यम से भू-जल स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने जलशक्ति अभियान `वैâच द रन २०२२’ को लाया है। वीडियो कॉन्प्रâेंसिंग के माध्यम से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की उपस्थिति में मनपा अधिकारियों और कर्मचारियों ने जल शपथ ली।
बारिश जहां और जिन स्थानों पर होगी उसके अनुसार जल संचयन संकल्पना के साथ राष्ट्रीय जल मिशन ने `वैâच द रेन’ अभियान शुरू किया है। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य मौसम और मिट्टी की स्थिति के आधार पर बारिश के पानी के उचित भंडारण के साथ ही आवश्यकता के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करना है। क्योंकि देश के अधिकांश हिस्सों के लिए पानी का एकमात्र स्रोत मानसून के ४ से ५ महीनों में होने वाली बारिश है।
भू-जल स्तर और मिट्टी में नमी बढ़ाना बहुत ही आवश्यक हो गया है। बारिश का मौसम गुजरने के बाद ८ महीनों में लगभग सभी कामों में इस्तेमाल होने वाले पानी की आवश्यकता की पूर्ति होना जरूरी है। ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही शहरी क्षेत्रों में पानी की इस मांग को पूरा करने के लिए जल संवर्धन, संरक्षण और नियोजन की नितांत आवश्यकता है।
बारिश कब और कहां होगी? उसके अनुसार जल संचयन संकल्पना के साथ अभियान को चलाया जाएगा। यह अभियान देश के सभी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में शुरू होगा। इस अभियान के उद्घाटन समारोह में मुंबई मनपा जल अभियंता विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों को फेसबुक लाइव के माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

अन्य समाचार