मुख्यपृष्ठनए समाचारराम मंदिर भाजपा की जागीर नहीं -संजय राऊत

राम मंदिर भाजपा की जागीर नहीं -संजय राऊत

-इवेंट मैनेजमेंट कंपनी हो गई है भाजपा

सामना संवाददाता / मुंबई

भारतीय जनता पार्टी एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी हो गई है। इसीलिए वे राम मंदिर का इवेंट करने से ज्यादा कुछ भी नहीं कर सकते हैं। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है यह आनंददायी बात है लेकिन राम मंदिर भाजपा की जागीर नहीं है। इस तरह का जोरदार तंज शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के नेता, सांसद संजय राऊत ने कसा है।
सोलापुर में पत्रकारों के पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने सत्ता दल व केंद्र सरकार पर निशाना साधा। राम मंदिर के उद्घाटन का इवेंट हो रहा है क्या? इस सवाल पर बोलते हुए राऊत ने कहा कि भाजपा दूसरा कुछ भी नहीं कर सकती है। उन्हें यह लिखना चाहिए कि हम अच्छे दिन नहीं ला सकते। हम लद्दाख से चीन को बाहर नहीं निकाल सकते। हम कश्मीर से विस्थापित हुए कश्मीरी पंडितों की घरवापासी नहीं कर सके। हम बेरोजगारों को रोजगार नहीं दे सके। भाजपा पार्टी नहीं वह एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी है। इस तरह के प्रयोग वे करते रहते हैं, उन्हें करने दें। महाराष्ट्र अथवा देश में नए साल में गुढी तोरण लगाने की परंपरा है। भाजपा ने कोई नया पंचांग बनाया है क्या? हम गुढी पाडवा, दशहरा पर गुढी तोरण लगाते हैं और आगे भी लगाएंगे। उसे भाजपा को कहने की जरूरत नहीं है। संजय राऊत ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है यह अत्यंत अनंददायी बात है। उत्साहित करने की बात है लेकिन राम मंदिर यानी भाजपा की जागीर नहीं है। यह न केवल दुनिया के हिंदुओं के लिए बल्कि यह सभी धर्मों के लिए एक प्रेरणा होगी। संजय राऊत ने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा कि अगर राम मंदिर बनाने की जिम्मेदारी भाजपा ले रही है, तो वह राम का अवमूल्यन कर रही है।
एक साथ आए तीनों दलों के नेता
संजय राऊत ने कहा कि चाहे शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे), कांग्रेस, राकांपा हो तीनों दलों के लोग सोलापुर में एक साथ आए और सोलापुर के राजनीतिक भविष्य पर अच्छे से चर्चा हुई। तीनों को एक साथ रहना है। तीनों दलों ने तय किया है कि लोकसभा, विधानसभा, मनपा इन सभी में इस समय जो जहर महाराष्ट्र में पैâल रहा है, उसे खत्म करने की शुरुआत सोलापुर से करना है। ये शुभ संकेत है, संपूर्ण महाराष्ट्र में सोलापुर का यही फॉर्मूला है, ये चलना चाहिए। इस दौरान संजय राऊत ने कहा कि ये बात मैं वापस जाकर बताऊंगा।
बनानी चाहिए जिला समन्वय समिति
महाविकास आघाड़ी की बैठक पर पूछे गए सवाल पर बोलते हुए संजय राऊत ने कहा कि महाराष्ट्र में पहली बार हमने देश और राज्य स्तर के तीन दलों के प्रमुख नेताओं से बात की और यह निर्णय लिया गया कि जिला स्तर पर भी तीनों दलों के प्रमुख नेताओं को आगे आकर समन्वय साधने के लिए कोई नीति बनानी चाहिए। अभी तक इसमें तेजी नहीं आई है, क्योंकि चार राज्यों में चुनाव थे। लेकिन आज अचानक वह योग सोलापुर में जुड़ गया।

अन्य समाचार