मुख्यपृष्ठनए समाचाररामभरोसे रेलवे!... `मेरी ड्यूटी खत्म, मैं चला घर' कहकर निकल गया रेलवे...

रामभरोसे रेलवे!… `मेरी ड्यूटी खत्म, मैं चला घर’ कहकर निकल गया रेलवे ड्राइवर

– बीच ट्रैक पर खड़ी रही २,५०० यात्रियों से भरी ट्रेन

सामना संवाददाता / लखनऊ

हिंदुस्थान की रेलवे के लिए अगर कहा जाए कि यहां की रेल रामभरोसे है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। आए दिन रेलवे से जुड़ी कई ऐसी घटनाएं सामने आती हैं कि जहां रेल प्रशासन की उदासीनता देखने को मिलती है। इसके साथ ही यहां काम करनेवाले कितने कर्मठ हैं इसका अनुमान लग जाता है। हाल ही में उत्तर प्रदेश के बाराबांकी से तो एक बेहद ही चौंकानेवाला मामला सामने आया है। सहरसा से दिल्ली जा रही स्पेशल ट्रेन बुढ़वल रेलवे स्टेशन पर लोको पायलट ने रोक दी। इसके बाद लोको पायलट `मेरी ड्यूटी १२ घंटे की थी अब खत्म हो गई’ बोलकर आराम करने चला गया। बीच रास्ते में एक घंटे तक लगभग ढाई हजार यात्री परेशान होते रहे। जब एक घंटा बीत गया तो यात्री परेशान होने लगे उन्हें रेलवे स्टेशन से जवाब मिला कि ड्राइवर और गार्ड की ड्यूटी खत्म हो गई है, इसलिए वे चले गए हैं।
जानकारी के अनुसार, बुधवार को दिन में १ बजे स्पेशल एक्सप्रेस सहरसा से दिल्ली के लिए निकली थी। थोड़ी दूर चलने के बाद बुढ़वल जंक्शन के पास स्पेशल एक्सप्रेस रुकी और इस दौरान वहां से के मालगाड़ी पास हुई।
यात्रीगण हुए आउट ऑफ कंट्रोल
इस पर सभी यात्रियों का गुस्सा कंट्रोल नहीं हुआ और उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया। सैकड़ों की संख्या में मौजूद यात्रियों ने रेल प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। घटना की जानकारी मिलते ही कंट्रोल रूम में हड़कंप मच गया। इसके बाद गोंडा से लोको पायलट और गार्ड भेजे गए।

अन्य समाचार