मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिकुशनगरी में दिखी राणा की आन बान शान ...धूमधाम से मनाई गई...

कुशनगरी में दिखी राणा की आन बान शान …धूमधाम से मनाई गई राणा प्रताप की 482वीं जयंती

• आकर्षण का केंद्र बना हाथी-घोडे के साथ लहराती तलवारें और केसरिया पताका

सुलतानपुर। चित्तौड नरेश महाराणा प्रताप की यशगाथा सोमवार को 482वीं जयंती पर दिनभर जिले में गूंजती रही। देर शाम करीब चार बजे क्षत्रिय भवन परिसर से हाथी-घोड़े के साथ आकर्षक शोभायात्रा निकाली गई। सड़कों की धुलाई करता आगे-आगे पानी का टैंकर और पीछे केसरिया पताका लहराते-झूमते चलते गजराज को देखने के लिए भारी भीड़ उमड़ी। हाथों में चमचमाती तलवारें लिए घुड़सवार और पैदल साफा बांधे हुए चलते लोगों ने गगनचुंबी नारों से उत्सव जैसा माहौल बना दिया।

सोमवार को राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीक महाराणा प्रताप की जयंती पर अभूतपूर्व उल्लास एवं उमंग का नजारा दिखाई दिया। राणा प्रताप कॉलेज परिसर में राणा की प्रतिमा पर सुबह से ही पुष्पांजलि अर्पित करने वालों का तांता लगा रहा। अपराह्न बाद करीब चार बजे हाथी-घोड़े और गाजे-बाजे के साथ भव्य शोभायात्रा निकाली गई। जिसकी जगह-जगह पुष्पवर्षा करके भावपूर्ण अगवानी की गई। सभी वर्गों के लोगों की कार्यक्रम में भागीदारी रही। आगे-आगे हाथी-घोड़े एवं ओम अंकित केसरिया ध्वज लिए हुए युवा राष्ट्रीय भावना से ओतप्रोत नारे व जयकारे लगा रहे थे। कलेक्ट्रेट, नगर पालिका, हेडपोस्ट ऑफिस, शाहगंज चाैक, सब्जी मंडी, अस्पताल चाैराहा, गोलाघाट, बस स्टेशन, दीवानी चाैराहा, पर्यावरण पार्क चाैराहा होते हुए क्षत्रिय भवन पहुंच विसर्जित हो गई। करूणाश्रय अस्पताल समीप समाजसेवी धीरेंद्र प्रताप सिंह धीरू एडवोकेट एवं भाजपा नेता गांधी सिंह के संयोजन में शर्बत वितरण किया गया। यहां पर बतौर मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री ओम प्रकाश पांडे ने महाराणा प्रताप के चित्र पर पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। दिनभर राहगीरों को ठंडा पानी व शरबत भी पिलाया गया। शोभायात्रा में फौजदारी अधिवक्ता अरविंद सिंह राजा, धीरेंद्र प्रताप सिंह, गांधी सिंह, डाॅ.एमपी सिंह, विजय सिंह रघुवंशी समेत सैकडों लोग शामिल थे।

सम्मानित हुईं ये विभूतियां
महाराणा प्रताप जयंती समारोह में पत्रकारिता के क्षेत्र में अमिट छाप छोड़ने वाले वरिष्ठ पत्रकार विक्रम बृजेंद्र सिंह, विनय कुमार सिंह, पंकज गुप्ता को सम्मानित किया गया। संयुक्त रूप से पूर्व पालिकाध्यक्ष प्रवीण अग्रवाल ने अधिवक्ता धीरेंद्र प्रताप सिंह धीरू, भाजपा नेता गांधी सिंह, संजय सिंह सोमवंशी ने महाराणा प्रताप की तस्वीर भेंट की। वहीं  चाय विक्रेता ईश्वरदीन एवं मोची का काम करने वाले रंगई जाटव को अंगवस्त्र व माल्यार्पण कर सम्मानित किया। धीरू सिंह ने 9 मई 1540 को कुम्भलगढ़ में जन्मे महाराणा प्रताप को याद करते हुए कहाकि ऐसे महापुरूषों के त्याग और बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

लोकतांत्रिक राजा थे महाराणा प्रताप-डॉ.एमपी
राणा प्रताप स्नातकोत्तर महाविद्यालय में महाराणा प्रताप जयंती पर आयोजित विचार गोष्ठी आयोजित की गई। पूर्व प्राचार्य डाॅ.एमपी सिंह ने कहाकि महाराणा प्रताप लोकतांत्रिक राजा थे। उन्हें उनके पिता ने नहीं बल्कि जनता ने चुना था। जनभावनाओं की रक्षा में राणा प्रताप ने अपना पूरा जीवन लगा दिया। संगोष्ठी को पूर्व प्रबंधक एडवोकेट बजरंग बहादुर सिंह, प्राचार्य प्रो.दिनेश कुमार त्रिपाठी, डॉ.शैलेन्द्र प्रताप सिंह, डॉ.प्रभात श्रीवास्तव, प्रबंधक सुरेन्द्र नाथ सिंह आदि ने महाराणा प्रताप की प्रतिमा व चित्र पर माल्यार्पण किया और अपना संबोधन दिया।

अन्य समाचार