मुख्यपृष्ठसमाचारअफसर गड़प कर रहे गरीबों का राशन! सीएम योगी के शहर में...

अफसर गड़प कर रहे गरीबों का राशन! सीएम योगी के शहर में मंत्री ने पकड़ी गोदाम पर घटतौली

-७० किलो कम मिला कोटेदार को भेजा जा रहा अनाज
-जिम्मेदार अधिकारियों को नोटिस, जांच शुरू
विक्रम सिंह / गोरखपुर। यूपी में भ्रष्ट अफसरशाही का खाद्यान्न माफियाओं से ऐसा गठजोड़ है कि सीएम योगी की `हनक’ भी फेल हो जा रही है। गुरुवार को गोरखपुर के सहजनवां विपणन केंद्र व क्रय केंद्र पर प्रदेश के खाद्य एवं रसद राज्यमंत्री सतीश शर्मा ने खुद ही घटतौली पकड़ी। गरीबों को वितरण के लिए कोटेदार को भेजा जाने वाला राशन ७० किलो कम निकला यानी गरीबों का राशन कुछ अधिकारी गड़प जा रहे हैं। सीएम के जिले में यह सीन देखकर भौचक मंत्री ने मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं। साथ ही डिप्टी आरएमओ व मार्वेâटिंग अफसर को नोटिस जारी कर दी है।
मिली जानकारी के मुताबिक खाद्य एवं रसद राज्यमंत्री सतीश शर्मा गोरखपुर में मंडल के गेहूं खरीद व राशन वितरण व्यवस्था की समीक्षा करने आए थे। उन्होंने बैठक में कहा कि गेहूं खरीद में किसी तरह की दिक्कत नहीं आनी चाहिए। किसानों की हर सुविधा का खयाल रखा जाए। नि:शुल्क राशन का वितरण सही ढंग से हो, इसे सुनिश्चित किया जाए। पर्याप्त मात्रा में राशन कोटेदारों के पास पहुंचना है। जो पात्र हैं, उनका राशन कार्ड बनाकर लाभ दें। इसके बाद वे लखनऊ के लिए निकल पड़े। रास्ते में सहजनवां में भीटी रावत के पास एक वाहन पर सरकारी राशन जाते देखा तो गाड़ी को रुकवाकर पूछताछ की।
रिपोर्ट भेजी जाए
इस दौरान बताया गया कि विपणन गोदाम सहजनवां से भीटी रावत के कोटेदार श्याम नारायण गुप्ता की सस्ते गल्ले की दुकान पर राशन जा रहा है। मंत्री ने वाहन को फिर गोदाम पर ले चलने का आदेश दिया। अनाज गोदाम पर पहुंचने के बाद बोरे की गिनती और तौल की गई तो ७० किलो गेहूं कम मिला। कम अनाज मिलने पर डिप्टी आरएमओ व डीएसओ को फटकार लगाते हुए राज्यमंत्री ने जांच कर रिपोर्ट देने का आदेश दिया है साथ ही रिपोर्ट डीएम व मंडलायुक्त को भी भेजने को कहा है।
गोदाम में नहीं मिला बड़ा कांटा
गोदाम के निरीक्षण के दौरान केंद्र पर बोरों की तौल के लिए बड़ा कांटा नहीं मिला तो नाराजगी जताई। छोटा कांटा मंगाकर बोरे की तौल कराई। मंत्री ने गोदाम से अनाज उठाने वाले कोटेदारों के भी अनाज की जांच के साथ प्रतिदिन कोटे की दुकान की जांच का निर्देश दिया। कोटेदारों को कंप्यूटराइज चालान देने और रजिस्टर पर दर्ज कराने का आदेश दिया।

अन्य समाचार