मुख्यपृष्ठनए समाचारदेवी सीता का अपहरण कर रावण ने नहीं किया गुनाह! गुलाब कटारिया...

देवी सीता का अपहरण कर रावण ने नहीं किया गुनाह! गुलाब कटारिया के ‘कांटों’ से आहत हुई ‘गुलाबी’ नगरी

भाजपाइयों का श्रीराम प्रेम उजागर
राजस्थान के नेता प्रतिपक्ष ने व्यक्त की ‘राक्षसी’ राय
सामना संवाददाता / मुंबई। भाजपा प्रभु श्रीराम के ही नाम पर हमेशा वोट मांगते आई है। इसका ये सिलसिला आज तक जारी है, पर भाजपा में प्रभु राम के प्रति दिखावे के प्रेम की क्या भावना है? ये राजस्थान के नेता प्रतिपक्ष की राक्षसी राय से सामने आती है। ‘देवी सीता का अपहरण कर रावण ने नहीं किया गुनाह!’ कटारिया के कांटों भरी इस राक्षसी राय से जयपुर की गुलाबी नगरी की जनता बहुत आहत हुई है। लोगों में कटारिया के प्रति रोष देखा जा रहा है, जबकि हमेशा श्रीराम के नाम पर राजनीति कर वोट मांगनेवाली भाजपा और उसके भाजपाई कटारिया के इस कृत्य पर कुछ बोलने की बजाय मुंह छिपाते हुए दिख रहे हैं।
बता दें कि वल्लभनगर के पूर्व विधायक रणधीर सिंह भींडर ने एक वीडियो शेयर कर कटारिया की राक्षसी राय की पोल खोली। उन्होंने बताया कि राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने बोहेड़ा के एक कार्यक्रम में फिर विवादित बयान दिया है।
इस बयान में कटारिया ने कहा कि रावण ने सीता जी का अपहरण कर कोई बहुत बड़ा गुनाह नहीं किया, क्योंकि उसने उन्हें छुआ तक नहीं। उन्होंने कहा कि कटारिया के अनुसार रावण बहुत सैद्धांतिक व्यक्ति था, उसने कोई बहुत बड़ा जुर्म नहीं किया। सीता जी का अपहरण तो एक आम बात थी, अगर वह छूता तो जुर्म होता। उनके अनुसार किसी की पत्नी का अपहरण कर लो, पर छुओ मत तो कोई गुनाह नहीं होगा। वहीं नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया को जब अपनी गलती और राजनीतिक भविष्य पर खतरा मंडराने का अंदाजा हुआ तो उन्होंने कहा है कि पूरा भाषण समझे बिना दो लाइन निकालना गलत है।
कटारिया को श्रीलंका भेज देना चाहिए
भींडर ने कहा कि जब कटारिया यह कहते हैं कि रावण ने कोई गुनाह नहीं किया तो वे संपूर्ण रामायण को ही गलत साबित कर रहे हैं, जबकि भगवान राम का अवतरण ही राक्षस रावण व उसकी प्रवृत्तियों को समाप्त करने के लिए ही हुआ था। ऐसा लगता है कटारिया रावण के ही अनुयायी हैं, तभी तो भगवान राम, महाराणा प्रताप व हमारे इतिहास को कोसते रहते हैं। उन्होंने कहा कि इंसान का बोलना ही उसका चरित्र और उसका बैकग्राउंड बताता है। अब हमें समझ में आने लगा है कि वे हिंदू या मेवाड़ी नहीं हैं। वे श्रीलंका से आए हैं और उन्हें वहीं भेज देना चाहिए, ताकि अपने आदर्श पुरुष रावण से मिल सकें। भींडर ने कहा कि यह मुद्दा ऐसा है, जिस पर संघ भी विचार करेगा और भाजपा को भी विचार करना होगा। अभी दो दिन पहले ही भाजपा के बीएल संतोष ने सभी को हिदायत दी थी कि विवादित बयान कोई भी नहीं दे। उसी पर कटारिया ने उनको जवाब दिया है कि मेरे लिए अनुशासन कुछ भी नहीं है।
कलेक्टर को दिया ज्ञापन
वल्लभनगर के पूर्व विधायक रणधीर सिंह भींडर ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया को उनके बयान पर फिर घेरा है। उन्होंने कहा कि कटारिया न हिंदू हैं, न मेवाड़ी है, ये तो श्रीलंका से आए हैं इन्हें वहीं भेज देना चाहिए। भींडर ने गुलाब चंद कटारिया के बयान के विरोध में उदयपुर जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

अन्य समाचार