मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनापाठकों की पाती : सरकार की लापरवाही से जेएनपीटी में सड़ रहे हैं...

पाठकों की पाती : सरकार की लापरवाही से जेएनपीटी में सड़ रहे हैं प्याज 

केंद्र सरकार द्वारा प्याज निर्यात पर लागू ४० फीसदी ड्यूटी के परिणाम अब देखने को मिलने लगे हैं। `दोपहर का सामना’ में प्रकाशित खबर के अनुसार, जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) में २०० कंटेनर में रखा ४०० टन प्याज रखे-रखे सड़ रहे हैं। खबर के अनुसार, अचानक लागू निर्यात शुल्क ४० प्रतिशत ड्यूटी की वृद्धि के कारण विदेशी खरीदारों ने प्याज की डिलिवरी लेने से मना कर दिया, जिसके चलते मजबूरन प्याज से भरे २०० कंटेनर यहीं जेएनपीटी में पड़े हुए हैं। केंद्र के इस पैâसले से व्यापारी भी नाराज हैं और किसान भी। नासिक जिला व्यापारी संघ ने जिले की १४ बाजार समितियों की नीलामी ही बंद कर दी है। सरकार को अपने पैâसले पर पुनर्विचार करना होगा।
-अनिल गर्ग, वाशी

सीनेट चुनाव क्यों नहीं करवा रही है सरकार?
सीनेट चुनाव को लेकर `दोपहर का सामना’ ने जनता की राय को लेकर एक खबर प्रकाशित की है। राज्य की ८७ फीसदी जनता सीनेट चुनाव रद्द करने के खिलाफ है। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व विधायक आदित्य ठाकरे ने मुंबई विश्वविद्यालय सीनेट चुनाव के स्थगित होने के बाद राज्य की जनता से गद्दार सरकार के बारे में सवाल पूछे थे। क्या यह सरकार सीनेट चुनाव होने देगी? जिस पर ८७ फीसदी लोगों ने नकारात्मक जवाब दिया। मेरे मतानुसार, राज्य की जनता अब समझ चुकी है कि यह सरकार सभी तरह के चुनाव से पीछे भाग रही है। आदित्य ठाकरे ने ट्वीट के माध्यम से इसे डरपोक सरकार कहा था, मैं भी इस बात से सहमत हूं।
-प्रशांत परदेशी, कल्याण

अन्य समाचार