मुख्यपृष्ठनए समाचारहथियारों की कमी से जूझते आतंकी! ....लाल मिर्च बनी आतंकियों का हथियार

हथियारों की कमी से जूझते आतंकी! ….लाल मिर्च बनी आतंकियों का हथियार

सुरेश एस डुग्गर / जम्मू । कश्मीर में एक्टिव स्थानीय आतंकी हथियारों की जबरदस्त कमी से जूझ रहे हैं। इस कमी को पूरा करने की खातिर वे सुरक्षाकर्मियों से हथियार भी छीनने की कोशिशें कर रहे हैं। हालांकि उस पार से ड्रोन से छोटे हथियारों की आपूर्ति उन्हें की जा रही है।

ऐसी ही एक घटना अनंतनाग के रैशी बाजार में आज हुई जहां आतंकियों ने एक कश्मीरी पंडित की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ जवान से हथियार छिनने का प्रयास किया। आतंकियों ने हथियार छिनने के लिए लाल मिर्च पाउडर का इस्तेमाल किया परंतु हमले के बावजूद जवान ने आतंकियों को अपना हथियार नहीं ले जाने दिया। इससे पहले कि वहां और सुरक्षाकर्मी उसकी मदद के लिए पहुंचते, हमलावर वहां से फरार हो गए।

अधिकारियों ने बताया कि रैशी बाजार में रहने वाले कश्मीरी पंडित परिवार की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ जवान जब अपने शिविर में था, तभी अचानक से कुछ आतंकी वहां पर आए और सुरक्षाकर्मी को अकेला पाकर उसकी आंखों पर लाल मिर्च पाउडर से हमला कर दिया। आतंकियों को लगा कि जवान इस हमले के बाद बौखला जाएगा और अपना हथियार छोड़ देगा परंतु ऐसा नहीं हुआ। आतंकियों के हमले के बाद भी सीआरपीएफ जवान ने अपने हथियार को नहीं छोड़ा और मदद के लिए जोर-जोर से अपने साथियों को पुकारना शुरू कर दिया।

यह पहला अवसर था जब आतंकियों ने हथियार छीनने के लिए लाल मिर्च का इस्तेमाल किया था। अभी तक की उनकी रणनति यही रही है कि एक आतंकी ड्यूटी पर तैनात जवानों पर हमला बोलता था और दूसरा उनके हथियारों को लेकर भाग जाता था। अधिकारियों के बकौल, आतंकियाें की नई रणनीति से निपटने के उपाय किए जा रहे हैं।

अन्य समाचार