मुख्यपृष्ठसमाचारताइवान में चीन की हरकतों का जवाब: अमेरिका ने ‘वॉरशिप’ किए तैनात!

ताइवान में चीन की हरकतों का जवाब: अमेरिका ने ‘वॉरशिप’ किए तैनात!

  • एक्शन के बाद ड्रैगन के तेवर पड़े ठंडे

एजेंसी / ताईपेई
ताइवान पर लगातार सैन्य दबाव बना रहे चीन को अमेरिका ने बहुत सख्त जवाब दिया है। रविवार को अमेरिकी नेवी ने अपने दो बेहद खतरनाक और हाईली एडवांस्ड न्यूक्लियर वॉरशिप ताइवान की खाड़ी में तैनात कर दिए। अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी की विजिट के बाद से ही चीनी सेना ताइवान के बिल्कुल नजदीक मिलिट्री एक्सरसाइज कर रही है। अब पहली बार अमेरिका ने जवाबी कार्रवाई की है। खास बात यह है कि अमेरिका के इस एक्शन के फौरन बाद चीन के तेवर ठंडे पड़ गए। कल जब अमेरिकी वॉरशिप ताइवान स्ट्रैट पहुंचे तो चीन ने कहा हम हालात पर नजर रख रहे हैं। तनाव बढ़ाने का कोई इरादा नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार पीपुल्स लिबरेशन आर्मी या चीन की सेना ने ताइवान के चारों तरफ ६ ‘नो एंट्री जोन’ घोषित किए हैं। यानी अब इन ६ रास्तों से कोई पैसेंजर प्लेन या शिप ताइवान नहीं पहुंच सकते हैं। चीन ने ताइवान के चारों ओर अपने फाइटर जेट और युद्धपोतों की तैनाती कर दी है। चीन की सेना नॉर्थ, साउथ-वेस्ट और साउथ-ईस्ट में ताइवान के जल और हवाई क्षेत्र में मिलिट्री ड्रिल कर रही है।
यूएस ने सैन्य ताकत को किया चैलेंज
रिपोर्ट के मुताबिक कई साल बाद पहली बार ऐसा हुआ है जब अमेरिका ने चीन की सैन्य ताकत को सीधे तौर पर चैलेंज किया है। इससे भी बड़ी बात यह है कि अमेरिका ने एक नहीं बल्कि दो वॉरशिप इस इलाके में तैनात किए हैं। चीन को पहली बार अहसास हो रहा है कि अब अमेरिकी नेवी ताइवान की मदद के लिए मोर्चा संभालने को तैयार है। इसका असर चीन की डिफेंस और फॉरेन मिनिस्ट्री के बयानों में भी देखा गया। चीन के बयान के बाद अमेरिकी नेवी ने भी जवाब दिया। उसने कहा हिंद महासागर और इसके रास्तों पर कब्जा नहीं करने दिया जाएगा। ये सबके लिए है और इसे फ्री ही रखा जाएगा। हम किसी भी एक्शन के लिए तैयार हैं।

अन्य समाचार