मुख्यपृष्ठनए समाचारप्लास्टिक बैन की वापसी ...२१ अगस्त से पुन: शुरू होगा अभियान

प्लास्टिक बैन की वापसी …२१ अगस्त से पुन: शुरू होगा अभियान

मनपा अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम करेगी कार्रवाई

सामना संवाददाता / मुंबई
महानगर मुंबई को स्वच्छ बनाने और प्रदूषणमुक्त करने के लिए पूर्व मंत्री व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे के निर्देशानुसार मनपा ने प्रतिबंधित प्लास्टिक बंदी अभियान शुरू किया। इस क्रम में राज्य सरकार ने कानून बनाकर प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोगकर्ताओं, विक्रेताओं आदि पर कार्रवाई का प्रावधान किया है। इस कानून को लाने की मांग और मुंबई में प्रतिबंधित प्लास्टिक को हटाने में आदित्य ठाकरे ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लेकिन राज्य में सत्ता परिवर्तन होने के बाद आई असंवैधानिक सरकार ने प्लास्टिक निर्माता कंपनियों के प्रति नरमी बरती और देखते-देखते फिर से प्लास्टिक के कचरे और प्रतिबंधित प्लास्टिक का उपयोग बढ़ने लगा है। प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग से बढ़ती समस्या को लेकर मनपा एक बार फिर आदित्य ठाकरे के दिखाए हुए मार्ग पर चलने को तैयार है। मनपा आगामी २१ अगस्त से शहर में प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग पर सख्ती से पाबंदी लागू करने के लिए तैयार है।
प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग पर रोक लगाने के लिए और नियमों का पालन सख्ती से हो, इसके लिए मनपा अधिकारियों, महाराष्ट्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एमपीसीबी) के अधिकारियों और पुलिस कांस्टेबलों द्वारा संयुक्त टीम बनाई गई है, जो एक साथ छापेमारी करेगी। मनपा अधिकारियों के अनुसार फेरीवाले, दुकानें और मॉल में खासकर मनपा की नजर होगी। सूत्रों के अनुसार, छापेमारी में शामिल होने के लिए एमपीसीबी की ओर से २४ पुलिस अधिकारियों की सूची उपलब्ध कराई गई है। प्रत्येक वॉर्ड में प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग के खिलाफ काम करनेवाली पांच सदस्यों की एक टीम बनाई जा रही है। इन २४ वॉर्डों में कुल १२० लोगों की टीम होगी।
बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने मार्च २०१८ से प्लास्टिक के उत्पादन, बिक्री, उपयोग और भंडारण पर प्रतिबंध लगा दिया है। तब से मनपा प्रतिबंध का उल्लंघन करनेवाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। लेकिन कोरोना महामारी ने उनके प्रयासों को रोक दिया। जुलाई २०२२ में काम फिर से शुरू किया गया। पिछले वर्ष में मनपा ने १,५८६ छापे मारे, ५,२८५ किलोग्राम प्लास्टिक जब्त किया और ७९ लाख रुपए का जुर्माना वसूल किया।

क्या हैं प्रतिबंधित प्लास्टिक के सामान?
प्रतिबंध में २०० मिलीलीटर से कम के सभी प्लास्टिक बैग, पाउच, कटोरे और बोतलें शामिल हैं। इसमें निर्दिष्ट दूध के पाउच को छोड़कर, एकल-उपयोग थर्मोकोल प्लेट और गिलास भी शामिल हैं। ५० माइक्रोन से अधिक मोटाई वाले प्लास्टिक की अनुमति है।
यह है दंड
नियम का पालन नहीं करने वालों के लिए दंड में पहले अपराध के लिए ५,००० रुपए शामिल हैं। दूसरी बार अपराध करने पर जुर्माना १०,००० रुपए होगा। तीसरे अपराध के लिए २५,००० रुपए और तीन महीने की जेल होगी।

अन्य समाचार