मुख्यपृष्ठस्तंभरौबीलो राजस्थान : टमाटर जिसी आंख्यां

रौबीलो राजस्थान : टमाटर जिसी आंख्यां

बुलाकी शर्मा राजस्थान

अबार म्हारी आंख्यां दूखणी आयोड़ी है। आम बोलचाल में आप आई-फ्लू वैâय सको अर डाक्टरी भासा में आई-कंजिक्टिवाइटिस। आंख्यां में इयां बळत लागती रैवै जाणै लाल मिरच बुरका दी हुवै वैâ किणी दुसमी नै कोई मोटो तमगो मिलग्यो हुवै।
इंफेक्शन रो सगळां में इसो डर बैठ्योड़ो है वैâ कोई कनै ई कोनी आवै। घर धिराणी ई दवाई रा टोपा आंख्यां में टपकावण नै आवै तो काळै चस्मै में आपरी आंख्यां नै लुकायोड़ी राखै।
कमरे में अ‍ेकलो बैठ्‌यो म्हैं आंख्यां माथै चिंतन करण लागूं। निजू लोग ई बेमारी में निजू कोनी रैवै। घर धिराणी मौके-बेमौके म्हनै आंख्यां देखा’र धमकावती रैया करै, अबार बा ई नजीक कोनी फटवैâ। सात फेरा लेयर सुख-दुख में साथ निभावण रो वादो करियो हो, बे वादा इयां बिसरायगी जियां करियोड़ा वादा नेता चुनाव पछै बिसराय दिया करै।
म्हारा मेम साब आंख्यां काढता इयां बात करिया करै जाणै वैâ आंख्यां सूं म्हनै गटक जासी। प्रेम में आंख्यां चार हुवण रा दिन तो बरसां पैला ई टिपग्या। बां सोवणा दिनां री याद आयां आंख्यां गीली हुयगी। पीड़ बधगी। ब्याव हुयां पछै आंख्यां में प्रेम री ठौड़ घर-गिरस्ती री चिंता दीखण लागै। आटे-दाल रै भावां में उळझ्यां पछै प्रेम रै भावां नै भाव देवणो ई भूल जावै। अ‍ेक-दूजै सारू ना आंख्यां बिछाइजै, ना आंख्यां रै पालणै बैठाइजै अर ना आंख्यां-आंख्यां में बातां करीजै। घर-गिरस्थी रै जंजाळ में बे म्हासूं प्रेम रा दो बोल बोलना ई भूलग्या। बां नै सिरफ म्हारी लापरवाहियां ई निगै आवै अर बे म्हारै माथै आंख्यां काढती रैवै अर म्हैं आख्यां नीची करियां सुणतो रैवूं।
म्हैं आंख्यां मींच्यां आंख्यां माथै चिंतन कर रैयो हो वैâ अचाणचक पोतो आयो अर म्हनैं देखतां बोल्यो- ‘दादा-दादा आपरी आंख्यां तो टमाटर बणयोड़ी है… लालमलाल टमाटर।’
टमाटर रो नांव सुण’र म्हैं चिमक्यो। टमाटर देख्यां नै कित्ता ई दिन हुयग्या है। हरखतो पूछ्यो, ‘कांई वैâयो, फेर वैâयै तो, बेटा।’
बो हंसतो जवाब दियो,‌ ‘लाल टमाटर जिसी लालम लाल आंख्यां है आपरी।’ फेर बो गंभीर हुय’र बोल्यो, ‘घणाई दिनां सूं टमाटर कोनी खाया, दादा। पापा नै वैâवतो रैवूं पण बे सुणै ई कोनी। आंख्यां ठीक हुयां पछै आप टमाटर लाया दादा।’
पोताजी गया परा। बीं री टमाटर री बात सुण्यां पछै म्हैं म्हारी आंख्यां री पीड भूलग्यो अर टमाटर माथै चिंतन करण लाग्यो।

अन्य समाचार

लालमलाल!