मुख्यपृष्ठस्तंभरौबीलो राजस्थान : पति-पत्नी‌ कथा

रौबीलो राजस्थान : पति-पत्नी‌ कथा

बुलाकी शर्मा
राजस्थान

रात रा नवेक बजी तीन-चार अध-बूढ़ भायला गळी में चौकी माथै बैठ्या थूक-बिलोय रैया हा। रिटायर लोगां नै टैम-कटी सारू बातां करण नै कोई नीं कोई मुद्दो चाइजै। आस-पाड़ोस री लुगायां री बातां करता रैवै। जवानी रो साथ छूट्यां पछै‌ इसी बातां सूं मन बहलावै।
आपरी कमर हाथ सूं पकड़्यां ओय रे-ओय रे करतो गोपलो गळी में बङ्‌यो जणै बांरी बातां रै ब्रैक लागग्यो। हरखचंद जी गोपलै नै इसारो कर’र चौकी माथै बैठायो। पूछ्यो, ‘कांई हुयो? किणी छोरी नै छेड़ी दीखै, जणै परसाद मिल्यो लागै।’
बीं नसड़ी हिलाय’र ना करियो।
‘फेर कांई बात हुई, बता।’ नासिर मियां बोल्या।
बीं टसकतै ‌बतायो कै आपांरी आगळी गळी रो रेंवत भायो दारू पियोड़ो आपरी लुगाई रै मारा-कूटी करतो गाळ्यां निकाळ रैयो हो। बा कुटीजती थकी बरोबर गाळ्यां काढती रैयी। गळी आळा मजमो लगा राख्यो हो पण बचावण नै कोई आगै नीं आयो। रोळो सुण’र बो बठै पूग्यो जणै ओ नजारो देख’र बीं नै रीस आयगी। बीं रेंवतै रै खैंचार तीन-चार झापड़ मा‌र’र दड़ूक्यो, ‘आ भौजी थांरै घर री लिछमी है। इण रो आव-आदर कर‌णो चाइजै अर थे कूटा-मारी कर रैया हो। आयंदा इयां करियो तो थांणै में रपट लिखा दूंला, समझग्या नीं।’
गोपलो बीं नै समझावण में लाग्योड़ा हो वैâ बीं री कमर माथै लट्ठ रो इत्तै जोर सूं फटीड़ पड़ि‌यो वैâ अ‍ेकर आंख्यां साम्हीं अंधारो हुयग्यो। बो संभळतो बीं सूं पैला अ‍ेक फटीड़ भळै धरीजग्यो। कमर झाल्यां आंख्यां खोल’र बो देख्यो तो रेंवत भायै री लु‌गाई रणचंडी बणियोड़ी हाथ में लट्ठ लियां दीखी। नागण जियां बा फुफकारी, ‘खबरदार जे म्हारै घरआळै रै हाथ लगायो तो। ओ म्हारो खसम है, म्हनैं मारै वैâ कूटै, थूं बिचाळै आवणियाो कुण? म्हें म्हांरै मत्तैई सलट लेसां, समझियो नीं।’
अर बा आपरै पतिदेव रा गालड़ा पंपोळती लागी, ‘मरजाणो, ल्यायां रा गालड़ा थप्पड़ां सूं राता कर न्हाख्या।’
सगळो विरतांत सुणा’र गोपलो टसकतो बोल्यो, ‘पति-पत्नी रै रिस्तां नै समझणो दोरो। आयंदा म्हैं इसा लफड़ां में पड़ूं ई कोनी, काका।’
बां बुजुर्गां बीं नै राय देयनै बयीर करियो वैâ इसा लफड़ां में पड़ियां सूं इयां ई हुया करै। घरै जाय’र मगरां रै कोई दवाई लगा’र आराम कर।
बीं रै गयां पछै बीं री तारीफ करण री ठौड़ बीं माथै बहम करता बातां करी वैâ गोपलो जरूर रेंवतै री लुगाई माथै डोरा घालण में लाग्योड़ो है, नीं जणै बीं नै पंचायत करण री जरूरत कांई ही!

अन्य समाचार