मुख्यपृष्ठसमाचाररोहिणी जायो लल्ला, मचो है ब्रज में हल्ला! ब्रजराज के जन्मोत्सव को...

रोहिणी जायो लल्ला, मचो है ब्रज में हल्ला! ब्रजराज के जन्मोत्सव को सुबह से शाम तक ब्रज के राजा के दर्शन को उमड़ती रही भीड़

कमल कांत उपमन्यु / मथुरा

गुरुवार की संध्या से ही जिस इंतजार में दूर-दराज से आए हुए श्रद्धालु पूरी रात नगर के विभिन्न रमणीक स्थानों पर रुके, उनके लिए शुक्रवार की सुबह आनंदमयी हो गई। सुबह ४ बजने से पहले ही श्रद्धालु स्नान कर अपने मस्तक पर चंदन का लेप लगाकर मंदिर के गेट पर जा पहुंचे। देखते ही देखते अपार जन-सैलाब उमड़ पड़ा। दोपहर १२ बजे जन्मोत्सव, अभिषेक एवं दिव्य जवाहारात के दर्शन करने के लिए श्रद्धालु लालायित दिखे, तो दधिकांधा में समाज के लोगों ने नारियल लूटकर मल्लविद्या का प्रदर्शन किया। देर शाम तक सांस्कृतिक कार्यक्रम होते रहे।
सुबह ४ बजे मंदिर कपाट खुल गए थे। कपाट खुलने के बाद श्रद्धालुओं को करीब दो घंटे तक मंगला के दर्शन हुए। इसी बीच शहनाई की धुन पर मंदिर परिसर चहुंओर से गुंजायमान हो रहा था। श्रद्धालु भी अपनी जगह पर खड़े होकर थिरक रहे थे। सुबह करीब ६ बजते ही विशेष शृंगार के दर्शन हुए। थोड़ी देर बाद ही बाल भोग के बाद दिव्य आरती के दर्शन करने के लिए बेरीकेटिंग के बीच लंबी लाइन देखी गई। सुबह ७ बजते ही परिसर में ही श्री बलभद्र सहस्त्रनाम पाठ के लिए पांडेय समाज के लोग धोती और बगलबंदी पहनकर अपने सांस्कृतिक परिधान में पाठ करते हुए नजर आए। थोड़ी देर बाद बलभद्र महायज्ञ में आहुति देने के लिए समाज के लोग एकत्रित हुए। वैदिक मंत्रोच्चारण के मध्य महायज्ञ संपन्न हुआ।
महायज्ञ संपन्न के बाद अवसर था भाद्रपद शुक्ल पक्ष की षष्ठी को ब्रजराज के जन्मोत्सव अभिषेक का। इसी बीच जगमोहन में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जमा हो गई थी। सेवायत और विशेष पंडितों के माध्यम से मंत्रोच्चारण के मध्य ब्रज के राजा के जन्मोत्सव पर पंचामृत अभिषेक हुआ। इसी बीच मंदिर प्रांगण रोहिणी जायो लल्ला, मचो है ब्रज में हल्ला… तीन लोक में कोई होय, पर ब्रज कौ राजा है दाऊदयाल…, अरी अलबेलो छैल छकनिया, ब्रज कौ राजा दाऊदयाल आदि रसिया गायन से प्रांगण गूंज रहा था। इसके बाद दाऊदादा को दिव्य स्वर्ण आभूषण धारण कराए गए। स्वर्ण आभूषण धारण से पहले मंदिर के प्रत्येक प्रवेश द्वार पर सुरक्षाबल तैनात रहा, जो कि देर शाम तक श्रद्धालुओं पर नजर बनाए रहा। ठीक १२ बजकर ३० मिनट पर राजभोग लगाया गया। इसके बाद हजारा आरती के दर्शन हुए।
बलदेव छठ पर मंदिर परिसर में धर्मानुष्ठानों के मुख्य आकर्षण का केंद्र दधिकांधा रहा। पांडेय समाज और बाहर से आए श्रद्धालुओं में दही की बौछार से सराबोर होने की होड़ मच गई। तत्पश्चात प्रांगण में मल्ल विद्या, नारियल लुटाने का प्रदर्शन देख श्रद्धालु रोमांचक हो उठे। जन्मोत्सव पर बधाई गीतों का सिलसिला रात्रि पर्यंत जारी रहा। आयोजनों के उपरांत समाज गाायन करते समाज के लोगों द्वारा कस्बा के क्षीर सागर की परिक्रमा करते हुए मोती बाजार, शिवरतन बाजार होते हुए मल्ल विद्या में लूटे नारियलों को दिखाते हुए अपने-अपने घरों को चले गए। इस अवसर पर काष्र्णि गुरु गुरुशरणानंद महाराज ने फल आदि मेवाओं को दधिकांधा में प्रसादी बतौर मंदिर की छत से सेवायतों तक पहुंचाया।

क्षीर सागर पर लगा सेहरों का ढेर
बलदेव छठ के अवसर पर क्षीर सागर पर सुबह से दोपहर तक शादी के सेहरों को विसर्जित करते हुए श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। सेहरे विसर्जित करने की यह परंपरा बलदेव छठ के अवसर पर निभाई जाती है। यह सेहरे माता-पिता अपने पुत्र की शादी के ठीक एक वर्ष बाद दूर-दराज से आकर बलदेव के क्षीर सागर पर विसर्जित करते हैं।

मथुरा-सादाबाद मार्ग रहा खचाखच
बलदेव-बलदाऊजी के जन्मोत्सव के अवसर पर बलदेव नगरी सहित मथुरा-सादाबाद मार्ग वाहनों से खचाखच भरा हुआ नजर आ रहा था। कहीं भयंकर जाम न लगे इस पैनी नजर से पुलिसकर्मी सुबह से शाम तक चौराहों पर तैनात रहे। भारी वाहनों को नगर में प्रवेश नहीं दिया गया। पुराने बस स्टैंड पर हल्के वाहनों को खड़ा करा दिया गया, जिससे अंदर और जाम की स्थिति पैदा न हो।

देर शाम तक चलते रहे भव्य-दिव्य कार्यक्रम
बलदेव जन्मोत्सव पर देर शाम तक नगर में शोभायात्रा का कार्यक्रम जारी रहा। इसी बीच भागवत भवन में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देखने के लिए श्रद्धालुओं की काफी भीड़ नजर आई। ब्रजरत्न वंदना श्री द्वारा संगीतमय, दृश्यात्मक, कलात्मक और भावनात्मक भगवान श्रीकृष्ण और बलराम की लीलाओं के मंचन के साक्षी बनने के लिए देर रात तक भीड़ का नजारा देखने को मिला।

अन्य समाचार