मुख्यपृष्ठनए समाचारगोवंडी से गुजरात पहुंची ‘जहर' के कारोबार की जड़ें! एएनसी को अंकलेश्वर...

गोवंडी से गुजरात पहुंची ‘जहर’ के कारोबार की जड़ें! एएनसी को अंकलेश्वर में मिला ड्रग्स का कारखाना

जितेंद्र मल्लाह / मुंबई
कम समय में मोटी कमाई के लालच में नशीले जहर का कारोबार करनेवाले देश के गद्दारों की कमर तोड़ने का प्रयास मुंबई पुलिस और उसकी एएनसी यूनिट लगातार करती रहती है। ऐसी ही एक कार्रवाई के दौरान २९ मार्च को एएनसी की वर्ली यूनिट की टीम ने ड्रग्स के एक कारोबारी को २५० ग्राम एम डी ड्रग्स के साथ गोवंडी से गिरफ्तार किया था। डीसीपी दत्ता नलावडे के मार्गदर्शन में गोवंडी से पकड़े गए ड्रग्स के उक्त कारोबारी की जड़ें खोदते हुए एएनसी की टीमें पालघर (नालासोपारा) होते हुए गुजरात के अंकलेश्वर तक पहुंच गई हैं।
डीसीपी दत्ता नलावडे ने बताया कि गोवंडी से गिरफ्तार तस्कर की निशानदेही पर तीन और लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जिनमें एक के पास ४ करोड़ १४ लाख की ६७० ग्राम एमडी मिला था जबकि नालासोपारा से पकड़े गए चौथे आरोपी के पास से १,४०३ करोड़ से अधिक का करीब ७०२ किलो एमडी ड्रग्स बरामद हुआ था।
पानोली जीआईडीसी में मिला कारखाना
मुंबई व आसपास के क्षेत्र में नशीले जहर की आपूर्ति करनेवाला ये गिरोह कृत्रिम ड्रग्स एमडी का निर्माण कहां करता है? इसकी जांच एएनसी की वर्ली, आजाद मैदान और बांद्रा यूनिट की टीमें संयुक्त रूप से कर रही थीं। इस प्रयास के दौरान कड़ियों को जोड़ते हुए एएनसी की टीम अंकलेश्वर स्थित पनोली जीआईडीसी पहुंच गई। अपनी कार्रवाई के दौरान नारकोटिक्स सेल ने लगभग ५१३ किलोग्राम एमडी ड्रग्स बरामद किया है। जब्त की गई दवाओं की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में १,०२६ करोड़ रुपए आंकी गई है। इस मामले में एक महिला समेत अब तक कुल ७ आरोपियों को एएनसी की टीम गिरफ्तार कर चुकी है। जिनमें से फिलहाल ५ आरोपियों को अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है, जबकि दो आरोपी एंटी नार्काेटिक्स सेल की कस्टडी में हैं।

अन्य समाचार