मुख्यपृष्ठनए समाचारकल्याण परिमंडल में 251 करोड़ रुपए का बिजली बिल बकाया

कल्याण परिमंडल में 251 करोड़ रुपए का बिजली बिल बकाया

सामना संवाददाता / कल्याण

महावितरण के कल्याण परिमंडल में सभी श्रेणियों के बिजली उपभोक्ताओं (कृषि पंपों और अस्थाई या स्थाई बिजली कटौती वाले उपभोक्ताओं को छोड़कर) के 251 करोड़ रुपए के बिजली का बिल बकाया है। इसलिए महावितरण के पास दो ही विकल्प बचे हुए हैं या तो बकाया राशि वसूलें या बकाएदारों की बिजली काट दें। महावितरण ने संबंधित बिजली उपभोक्ताओं को असुविधा से बचने के लिए बकाया राशि का भुगतान करने की अपील की है। बकाया वसूली के लिए विभागीय अधिकारी और कर्मचारियों के साथ क्षेत्रीय अभियंता, तकनीकी कर्मचारी मैदान में हैं। बार-बार अनुरोध के बावजूद बिजली बिल भुगतान की समय सीमा समाप्त होने पर कल्याण परिमंडल में 5 लाख 58 हजार 185 उपभोक्ताओं पर 251 करोड़ रुपए का बिजली बिल बाकी है।
कल्याण-पूर्व तथा पश्चिम और डोंबिवली डिवीजन को मिलाकर एक कल्याण मंडल कार्यालय के तहत 1 लाख 4 हजार 769 ग्राहकों पर 43 करोड़ 95 लाख रुपए का बिल बकाया है। उल्हासनगर कैंप नंबर एक, दो और कल्याण ग्रामीण डिवीजन को मिलाकर कल्याण मंडल दो के तहत 1 लाख 65 हजार 129 उपभोक्ताओं पर 83 करोड़ 62 लाख रुपए का बिजली बिल बकाया है। वसई और विरार मंडल को मिलाकर बने वसई मंडल के 1 लाख 95 हजार 372 उपभोक्ताओं पर 78 करोड़ 41 लाख और पालघर मंडल के 92 हजार 915 उपभोक्ताओं पर 44 करोड़ 93 लाख रुपए का बिजली बिल बकाया है। इसके अलावा कल्याण सर्कल में जिन 67 हजार 466 ग्राहकों की बिजली आपूर्ति अस्थाई तौर पर काटी गई थी, उन पर 2,500 करोड़ रुपए बकाया है।
बिजली बिल भुगतान को सुविधाजनक बनाने के लिए छुट्टियों के दिन भी भुगतान केंद्र खुले रखे गए हैं। इसके अलावा डेबिट / क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग के माध्यम से ऑनलाइन बिजली बिल भुगतान की सुविधा महावितरण की वेबसाइट, ग्राहकों के लिए मोबाइल ऐप आदि के माध्यम से उपलब्ध है। महावितरण ने संबंधित ग्राहकों से अपील की है कि वे इन सुविधाओं का उपयोग करके निर्धारित समय सीमा के भीतर बिजली बिल का भुगतान करें।

अन्य समाचार