मुख्यपृष्ठखबरेंहत्या से दहली यूपी! 24 घंटे में दो साधुओं की निर्मम...

हत्या से दहली यूपी! 24 घंटे में दो साधुओं की निर्मम हत्या

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ। जब राज्य में विधानसभा चुनाव परिणाम के जश्न में यूपी डूबा था तभी राज्य में दो-दो साधुओं की निर्मम हत्या कर दी गयी। साधुओं की हत्या से पूरब से लेकर पश्चिम तक यूपी दहल गया। दोनों हत्याएं 24 घंटे के भीतर की गयीं हैं।

पहली घटना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर में हुई तथा दूसरी हत्या पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में की गई है। गोरखपुर के पीपीगंज की जंगल अगही गांव के सहजुआ टोला के बाहर एक कुटी में गुरुवार रात सोते समय 60 वर्षीय पु​जारी हंसराज निषाद की गला रेतकर नृशंस हत्या कर दी गई। शुक्रवार सुबह उनका शव कुटी में बिस्तर पर पड़ा था। बिस्तर खून से लथपथ था। ग्रामीणों के मुताबिक पुजारी हंसराज पिछले एक महीने से सहजुआ टोला के बाहर कुटी में रहते थे। हंसराज के साथ एक अन्य बंगाल के साधु भी रहते हैं। गुरुवार रात पुजारी कुटी के बाहर जमीन पर बिस्तर लगाकर सोए थे तो वहीं दूसरे साधु कुटी के अंदर ही सो रहे थे। सुबह जब दूसरे साधु सोकर उठे और बाहर निकले तो पु​जारी का शव बिस्तर पर खून से लथपथ देख कर उन्होंने ग्रामीणों को सूचना दी। ग्रामीणों ने पुलिस को खबर किया। ग्रामीणों के मुताबिक मृत पुजारी हंसराज पर दो साल पहले भी चाकू से हमला हुआ था तब वह मखनहा काली मंदिर के पुजारी थे। उस समय भी हमलावरों ने सोने के दौरान ही यह हमला किया था लेकिन उस वक्त उनकी जान बच गई थी। पुलिस ने उनकी तहरीर पर अज्ञात हमलावरों पर हत्या के प्रयास का केस भी दर्ज किया था। लेकिन आरोपितों की गिरफ्तारी तो छोड़िए पुलिस अबतक उनकी पहचान भी नहीं कर सकी।

दूसरी घटना पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की है। जहां शराब पार्टी के दौरान हुई खटपट को लेकर एक साधु ने दूसरे साधु को कुल्हाड़ी से काटकर मौत के घाट उतार दिया। सबूत मिटाने के लिए मृत साधु को छप्पर में आग लगाकर जला दिया गया। आरोपी साधु ने थाने पहुंचकर खुद ही साधु की हत्या हो जाने की जानकारी दी। पुलिस ने शक होने पर साधु को हिरासत में ले लिया। जिसके चलते हत्या की इस वारदात का हाथों हाथ खुलासा भी हो गया। हिरासत में लिये गये प्रवेश गिरि ने रट्टू तोते की तरह हत्या की इस वारदात का खुद ही खुलासा करते हुए बताया कि उसने मृतक साधु के साथ बैठकर शराब पी थी। शराब पार्टी में नशा चढ़ने के दौरान दोनों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी। जिसके चलते प्रवेश गिरी ने पहले साधु को डंडों से जमकर मारा पीटा और बाद में कुल्हाड़ी के वार से उसका गला काट दिया। सबूत मिटाने के लिए आरोपी ने शव को झोपड़ी में रखकर आग लगा दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

अन्य समाचार