मुख्यपृष्ठसमाचार‘सैड' करती है ‘सेंट्रल' रेलवे!  रोजाना होती हैं ४ दुर्घटनाएं

‘सैड’ करती है ‘सेंट्रल’ रेलवे!  रोजाना होती हैं ४ दुर्घटनाएं

सामना संवाददाता / मुंबई
मायानगरी मुंबई और ठाणे जिले को जोड़नेवाली सेंट्रल रेलवे आम यात्रियों को रोजाना दर्द दे रही है। सेंट्रल रेलवे से यात्रा करनेवाले यात्री सेंट्रल रेलवे में हो रही दुर्घटनाओं से सैड हैं। यदि इस वर्ष जुलाई महीने में सेंट्रल रेलवे पर हुई दुर्घटनाओं पर नजर डालें तो ३१ दिनों के भीतर कुल १२३ दुर्घटनाएं हुई हैं। यदि इस आंकड़े का औसत निकालें तो रोजाना ४ दुर्घटनाएं मध्य रेलवे में होती हैं। बता दें कि मुंबई और ठाणे जिले को जोड़ने में सेंट्रल रेलवे महत्वपूर्ण मानी जाती है। इन दोनों जिलों में आवागमन के लिए लगभग ७० से ८० प्रतिशत आबादी मध्य रेलवे की लोकल सेवा अवलंबित है। किंतु भीड़ अधिक होने के कारण मध्य रेलवे यात्रियों को दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ता है। पिछले कई वर्षों से हजारों यात्रियों ने रेल दुर्घटनाओं में अपनी जान गवां दी है। सेंट्रल रेलवे की वेबसाइट पर मौजूद आंकड़ों पर नजर डालें तो आंकड़े बताते हैं कि रोजाना आम यात्रियों को यात्रा में कितनी मुश्किल का सामना करना पड़ता है। वेबसाइट पर मौजूद आंकड़ों के अनुसार १ जुलाई से ३१ जुलाई के भीतर कुल १२३ दुर्घटनाएं हुई हैं। जिसमें से ५ यात्रियों की मृत्यु हो गई है जबकि ११८ यात्री गंभीर रूप से जख्मी हुए है। टिटवाला से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस तक यात्रा करनेवाले पंकज कोकाटे ने बताया कि कसारा से सीएसएमटी की ओर जानेवाली लोकल में भीड़ इतनी अधिक होती है कि अंदर ही घुसने नहीं मिलता, ऐसे में मजबूरन गेट पर खड़े होकर यात्रा करने का खतरा उठाना पड़ता है, वहीं वासिंद से दादर जानेवाले तेजस कदम ने बताया कि दादर उतरते वक्त उन्हें धक्का मारकर नीचे उतरना पड़ता है।

अन्य समाचार