मुख्यपृष्ठअपराधअय्याश पति का दर्दनाक अंत: प्रेमिका के ‘साथ’ रहते समय करता था...

अय्याश पति का दर्दनाक अंत: प्रेमिका के ‘साथ’ रहते समय करता था वीडियो कॉल , दुखी मां-बेटी ने किया कत्ल

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
दिल्ली से सटे गाजियाबाद क्षेत्र से कत्ल का सनसनीखेज मामला सामने आया है। सुनार की हत्या के उक्त मामले में पुलिस ने मृतक की पत्नी और बेटी को गिरफ्तार किया है। लेकिन इस कत्ल की वजह जब लोगों को पता चली तो लोग मृतक के प्रति नफरत और हत्या की आरोपी महिला और बेटी के प्रति सहानूभति व्यक्त करने लगे।
बता दें कि गाजियाबाद के कमला नेहरू नगर इलाके में केंद्रीय विद्यालय के पास एक कार के पीछे वाली सीट पर एक व्यक्ति लहूलुहान हालत में पड़ा मिला था। पुलिस द्वारा नजदीकी संजयनगर स्थित जिला संयुक्त अस्पताल ले जाए जाने पर डॉक्टरों ने उक्त जख्मी व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया। कार और मृत व्यक्ति के पास से मिले कागजातों की मदद से पुलिस कमला नेहरू नगर स्थित मृतक के घर पहुंची तो मृतक की पहचान रंजीत वर्मा (बदला हुआ नाम) के रूप में सामने आई, जो कि पेशे से एक सुनार था। ग्रेटर नोएडा में ज्वैलर्स शॉप चलाने के साथ-साथ पुरानी गाड़ियों की खरीद-बिक्री का भी काम करता था।
पत्नी और बेटी ने किया था कत्ल
पुलिस को रंजीत के घर में खून से लथपथ एक ईंट का टुकड़ा और खून में सना एक पोंछा मिला। पूछताछ में रंजीत की पत्नी ने बताया कि रंजीत का किसी अन्य महिला से अवैध संबंध था। रंजीत प्रतिदिन शराब पीकर अपनी पत्नी और १६ वर्षीय बेटी के साथ मारपीट करता था। शनिवार की रात हुए इसी तरह के झगड़े के दौरान रंजीत पत्नी को पीट रहा था, जबकि उनकी बेटी मां को छुड़ाने की कोशिश कर रही थी। रंजीत नहीं रुका तो बेटी ने ईंट उठाकर रंजीत के सिर पर मार दी। इससे रंजीत वहीं बेहोश हो गया। बाद में मां-बेटी ने मिलकर रंजीत को उसकी वैगनआर कार में पीछे की सीट पर डाल दिया और घर से कुछ ही दूरी पर ले जाकर कार छोड़ दी, ताकि किसी को यह शक न हो कि हत्या उन्होंने ही की है। पुलिस क्षेत्राधिकारी रितेश त्रिपाठी ने बताया कि रंजीत का सहारनपुर निवासी एक युवती से अवैध संबंध था। वह अपनी प्रेमिका के साथ हमबिस्तर होकर पत्नी को वीडियो कॉल करता था। साथ ही विरोध करने पर पत्नी और बेटी के साथ रोजाना मारपीट किया करता था। इतना ही नहीं पूछताछ में पत्नी ने बताया कि रंजीत कई बार नशे के दौरान नाबालिग बेटी के सामने निर्वस्त्र हो जाता था। उसने मारपीट के दौरान कई बार बेटी के कपड़े फाड़ दिए। पति की इन हरकतों की वजह से ही उसकी बेटी की छठी के बाद पढ़ाई छूट गई थी।
बेटी ने अकेले ही लगाया था शव को ठिकाने
एसओ मुनेश कुमार ने बताया कि बेहोश पड़े रंजीत को पत्नी और बेटी सीढ़ियों से खींचकर नीचे लेकर गई थीं और उसे कार में डाल दिया। इसके बाद बेटी अकेले ही कार चलाकर घर से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर सड़क किनारे ले गई थी। वहां कार खड़ी करके वह पैदल घर लौटी थी। पुलिस का कहना है कि घटना के वक्त रंजीत के दोनों बेटे सोए हुए थे।

अन्य समाचार