मुख्यपृष्ठसमाचारबेटे की मौत के वियोग में 65 वर्षीय पिता ने लाइसेंसी पिस्टल...

बेटे की मौत के वियोग में 65 वर्षीय पिता ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारकर की खुदकुशी

उमेश गुप्ता / वाराणसी

बेटे की मौत से अवसाग्रस्त 65 वर्षीय पिता आनंद मल्होत्रा ने गुरूवार की सुबह अपनी लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। यह घटना भेलूपुर थाना क्षेत्र के सुदामापुर स्थित आवास में हुई। आनंद मल्होत्रा ने कनपटी में गोली मारी थी।
आनंल मल्होत्रा उर्फ अनिल का सुदामापुर में तीन मंजिला मकान है। पत्नी नैना और बहू रितु, आनंद मल्होत्रा के दो बेटे थे। बड़े बेटे विक्की की पहले ही मौत हो गई। छोटे बेटे विक्रम की दो माह पहले बीमारी से मौत हो गई। बड़े बेटे की मौत से आनंद पहले टूट गए थे, लेकिन छोटे बेटे की मौत से उन्हें और गहरा सदमा लगा और वह अवसाद में चले गए।
आनंद मल्होत्रा मूल रूप से चौक थाना क्षेत्र के नीचीबाग के रहनेवाले थे। 20 साल पहले सुदामापुर में जमीन खरीदकर आलीशान मकान बनवाया। इस घर में परिवारवालों के अलावा अन्य हिस्सों में किराएदार रहते हैं। चौक में बड़ा नारायण दास नाम से कटरा है। कटरे और मकान से लाखों रुपए किराया मिलता है। मकान में आनंद पत्नी नैना, छोटे बेटे विक्रम की पत्नी रितु, पौत्री भारती के साथ रहते हैं। पत्नी नैना ने बताया कि छोटे बेटे विक्रम की मौत के बाद से वह काफी पेरशान रहने लगे थे। वह सुबह उठे और नित्यकर्म के बाद चाय पी। इसके बाद वह अपने कमरे में चले गए। थोड़ी देर बाद कमरे से गोली चलने की आवाज आई तो वह बहू के साथ पहुंचीं। देखा कि खुद की लाइसेंसी पिस्टल से कनपटी में उन्होंने गोली मार ली थी। यह देख सास और बहू दहाड़े मारकर रोने लगीं। उनके रोने की आवाज सुनकर किराएदार और आस-पास के लोग पहुंचे। इस घटना के बारे में जिसने भी सुना आवाक रह गया। आनंद मल्होत्रा कभी ऐसा भी कर सकते हैं यह किसी ने सोचा नही था। सूचना पर पुलिस और फोरेंसिक टीम पहुंची। मौके की जांच के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा। भेलूपुर इंस्पेक्टर विजय कुमार शुक्ला ने बताया कि बेटे की मौत के बाद आनंद मल्होत्रा अवसादग्रस्त हो गए थे।

अन्य समाचार