मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृति32 बंदूकों की सशस्त्र सलामी से सरदार उधम सिंह की मनाई गई...

32 बंदूकों की सशस्त्र सलामी से सरदार उधम सिंह की मनाई गई 124वीं जयंती

उमेश गुप्ता / वाराणसी

शहीद उधम सिंह की जयंती के अवसर पर वाराणसी में 32 फायर की सलामी दी गई। वाराणसी के गिरजाघर चौराहा के पास स्थित शहीद उधम सिंह की प्रतिमा के पास उधम सिंह की जयंती पर बड़ी संख्या में काशी के लोग पहुंचे। जयंती कार्यक्रम की शुरुआत पुलिस के जवानों ने बैंड और विगुल बजाकर गॉड ऑफ ऑनर दिया, वहीं इस मौके पर सभी धर्मों के अनुयायियों ने अपने धर्म के ग्रंथ का पाठ किया।
अमर शहीद के जन्मोत्सव के अवसर पर सर्वदलीय सभा का आयोजन किया गया, जिसमें अतिथियों का स्वागत करते हुए ट्रस्ट के चेयरमैन उदय नारायण सिंह ने कहा कि देश में 14 नवंबर को मनाए जाने वाले बाल दिवस को गुरु गोविंद सिंह के चारों साहिबजादों के शहादत दिवस के रूप में “26 दिसंबर को बाल दिवस” मनाने की घोषणा का सवार किया।
32 फायर की सलामी काशी राज परिवार रामनगर दुर्ग के दामाद डॉ. अशोक कुमार सिंह द्वारा ली गई। उस समय हर हर महादेव का जयकारा लगाया गया। सभा में सर्वसम्मति से यह मांग की गई कि गिरजाघर पंचमुहानी का नाम शहीद उधम सिंह पंचमुहानी किया जाय। इसके अलावा शहीद उधम सिंह पार्क में संग्राहलय वाचनालय के साथ ही उनकी वाराणसी की स्मृतियों को सहेजा जाय। इस अवसर पर हजारों लोगों ने शहीद उधम सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर नमन किया।
इस अवसर पर उपस्थित लोगों में राम बाबू, हरेन्द्र शुक्ला, डॉ. सत्यदेव सिंह, विजय नारायण सिंह, बी.के. सिंह, रिशी नारायण सिंह, हौसला प्रसाद सिंह, भाई रकम सिंह, भाई अंकित सिंह, भाई गोविंद सिंह, भाई रंजीत सिंह, अजीत सिंह, नरेन्द्र सिंह, भाई महंत सिंह.  दीपक सिंह, वेदान्त सिंह, साधु-संत, महात्मा आदि उपस्थित थे। सभा का संचालन आयोजक उदय नारायण सिंह ने किया।

अन्य समाचार