मुख्यपृष्ठधर्म विशेषसरोकार : बच्चों का संवरेगा कल!... मनपा के पब्लिक स्कूल की बढ़ी...

सरोकार : बच्चों का संवरेगा कल!… मनपा के पब्लिक स्कूल की बढ़ी डिमांड

धीरेंद्र उपाध्याय।  मानव संसाधन के विकास का मूल शिक्षा है, जो देश के सामाजिक-आर्थिक तंत्र के संतुलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आम तौर पर ५ से ११ साल की उम्र के बीच के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा संस्थान के माध्यम से ऐसे विषय और कौशल सिखाए जाते हैं, जो उनकी स्कूली शिक्षा के बाकी हिस्सों की नींव रखते हैं। प्राथमिक शिक्षा संस्थान बच्चों को विभिन्न धर्मों, नस्लों और सामाजिक, आर्थिक स्थितियों के साथ-साथ विकलांग लोगों से मिलने के अवसर प्रदान करते हैं। इसलिए प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों के पास बच्चों को सहिष्णुता और सम्मान के बारे में सिखाने का एक अनूठा मौका होता है। इसी को ध्यान में रखते हुए मुंबई मनपा द्वारा शुरू सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के पब्लिक स्कूलों की डिमांड तेजी से बढ़ रही है। विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों का इसे भारी प्रतिसाद भी मिल रहा है। इसे देखते हुए शिक्षा विभाग ने स्कूलों में सुविधायुक्त और गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा मुहैया कराने के लिए शैक्षणिक वर्ष २०२२-२३ के लिए नर्सरी और जूनियर में सीटों को बढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके तहत मनपा के ११ सीबीएसई और एक आईसीएससी स्कूल में विद्यार्थियों के लिए सीटें बढ़ाई गई हैं।

प्रवेश दिलाने के लिए मची होड़
मुंबई पब्लिक स्कूलों में मिलनेवाले शिक्षा के उच्च स्तर को देखते हुए अभिभावकों में अपने बच्चों को स्कूलों में प्रवेश दिलाने की होड़ सी मच गई है। बता दें कि जिन क्षेत्रों में मनपा के मुंबई पब्लिक स्कूल हैं, वहां अन्य निजी नामचीन स्कूल हैं। इसके बावजूद मनपा के इन स्कूलों में प्रवेश के लिए कतारें लगी हैं। मनपा शिक्षा समिति के सदस्य सार्र्इंनाथ दुर्गे ने शैक्षणिक वर्ष २०२२-२३ के लिए नर्सरी और जूनियर केजी में सीटें बढ़ाने की मांग विभाग के सह आयुक्त अजीत कुंभार से की थी। उनकी इस मांग को सह आयुक्त ने मंजूर कर लिया है।

इस तरह मिल रहा प्रतिसाद
वर्ष २०२०-२१ में पूनम नगर सीबीएसई और वूलन मिल में आईसीएसई बोर्ड का एक-एक स्कूल खोला गया था। इन स्कूलों में कुल ६४० सीटों के लिए १,८५२ आवेदन मिले थे, वहीं वर्ष २०२१-२२ में ११ सीबीएसई और एक आईसीएसई सहित कुल १२ स्कूलों में छात्रों के कुल ३,८४९ सीटों के लिए ९,६३५ आवेदन आये थे। वर्ष २०२२-२३ के लिए नर्सरी और जूनियर केजी से ८वीं तक की सीटों की प्रवेश प्रक्रिया लॉटरी से पूरी की गई। इसमें ७२२ सीटों के लिए तीन हजार से अधिक आवेदन मिले हैं, वहीं शिक्षा विभाग ने सीबीएसई बोर्ड के ११ और आईसीएसई के एक मुंबई पब्लिक स्कूल में नर्सरी और जूनियर केजी में क्रमश: ४८० सीटें बढ़ा दी हैं।

अभिभावकों को पब्लिक स्कूल पसंद
शिक्षा के स्तर को देखते हुए अभिभावक मुंबई पब्लिक स्कूल को पसंद करने लगे हैं। शिक्षा में सुधार लाए जाने के बाद से ही मुंबई पब्लिक स्कूल में नर्सरी और जूनियर केजी की कक्षाओं में सीटें बढ़ाये जाने की मांग हो रही थी। जिसे मनपा के शिक्षा विभाग ने पूरा कर प्रशंसनीय कार्य किया है।
-विनय कुमार सिंह, अध्यापक

उज्ज्वल होगा बच्चों का भविष्य
नर्सरी और जूनियर केजी में सीटें बढ़ाकर मनपा ने न केवल सराहनीय कार्य किया है, बल्कि इससे बच्चों का भविष्य भी उज्ज्वल होगा। मुंबई पब्लिक स्कूल में हर एक सुविधा दिए जाने का प्रयास किया जा रहा है, जो निजी स्कूलों में दी जा रही है। मनपा का शिक्षा विभाग यदि इसी तरह शिक्षा क्षेत्र में काम करता रहा तो वह दिन दूर नहीं, जब निजी के बजाय सरकारी स्कूलों को लोग वरीयता देने लगेंगे।
-शकुंतला चौबे, स्थानीय नागरिक

पब्लिक स्कूल पर बढ़ा विश्वास
मुंबई मनपा के सीबीएसई और आईसीएससी बोर्ड के पब्लिक स्कूलों को उत्तम प्रतिसाद मिल रहा है। निजी की बजाय पब्लिक स्कूलों में प्रवेश दिलाने के लिए अभिभावक प्रयत्नशील हैं। इससे यह साफ है कि लोगों का पब्लिक स्कूल पर विश्वास बढ़ा है।
-सार्इंनाथ दुर्गे, सदस्य, शिक्षा समिति

अन्य समाचार