मुख्यपृष्ठसमाचारमेरी मम्मी को बचा लीजिए जज साहब! मां को बंधन से छुड़ाने...

मेरी मम्मी को बचा लीजिए जज साहब! मां को बंधन से छुड़ाने कोर्ट पहुंचा मासूम

  • कोर्ट ने बच्चे की मां को छुड़ाने का दिया आदेश

इंदौर में अमानवीय घटना से परेशान होकर एक १२ साल के मासूम बच्चे ने अपनी मां के बंधक बनाए जाने की शिकायत पहले पुलिस से की, लेकिन पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। जिसके बाद बच्चा कोर्ट तक पहुंच गया, जहां कोर्ट ने पुलिस को ये आदेश दिया कि बच्चे की मां को बंधन से छुड़ाया जाए और मामले में उचित कार्रवाई भी की जाए। साथ ही उन्हें उचित सुरक्षा भी दी जाए। जानकारी के मुताबिक इंदौर के एरोड्रम थाना क्षेत्र में रहनेवाले एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को घर पर ही एक साल से बंधक बनाकर रखा हुआ था। महिला जब भी बाहर निकलने की कोशिश करती तो पति उससे मारपीट करता और फिर कमरे में बंद कर देता। अपनी मां के साथ रोजाना हो रहे इस दुव्र्यवहार को देखते हुए १२ वर्षीय बच्चे ने पहले इलाके के थाने में शिकायत की जिस पर पुलिस ने कोई भी कार्रवाई नहीं की।
जिला कोर्ट में दायर की थी याचिका
बता दें कि बच्चे ने अपनी मां को बंधन से मुक्त कराने के लिए इंदौर के जिला न्यायालय में एक याचिका लगाई है। याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई करते हुए महिला बाल विकास अधिकारी को पूरे मामले की जांच के आदेश दिए। महिला बाल विकास की जांच में आरोप सही पाए जाने पर कोर्ट ने पुलिस को फटकार लगाते हुए आरोपी पति से मां और मासूम बच्चे को सुरक्षा देने के निर्देश दिए। साथ ही आरोपी पति के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज करने के निर्देश भी कोर्ट ने दिए। पति बच्चे की मां से भी गलत काम करवाने के लिए लगातार दबाव बना रहा था। इन्हीं सबसे परेशान होकर बच्चे ने कोर्ट की शरण ली।
महिला बाल विकास विभाग ने पेश की रिपोर्ट
जांच के बाद मामले को लेकर महिला बाल विकास विभाग ने कोर्ट को अवगत कराया। कोर्ट ने महिला बाल विकास विभाग के तथ्यों के आधार पर महिला के पति पर विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज करने के निर्देश दिए। वरिष्ठ वकील कृष्ण कुमार कुहरे ने बताया कि बच्चे ने कोर्ट के समक्ष याचिका लगाई थी। उसी पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने इस पूरे मामले में आरोपी पति के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

अन्य समाचार