मुख्यपृष्ठनए समाचारसुरक्षा में घोर लापरवाही!.. भाजपा नेता की निर्माणाधीन इमारत से गिरा पत्थर......

सुरक्षा में घोर लापरवाही!.. भाजपा नेता की निर्माणाधीन इमारत से गिरा पत्थर… घटनास्थल पर हुई एक मजदूर की मौत

-पहले भी दुर्घटनाओं से जा चुकी है तीन की जान

अमर झा / भायंद

तेजी से विकसित हो रहे मीरा-भायंदर में भवन निर्माण का काम तेजी से हो रहा है। नए पुराने भवन निर्माता तेजी से भवन निर्माण कार्य में लगे हुए हैं, लेकिन भवन निर्माताओं द्वारा मजदूरों की सुरक्षा के लिए उपर्युक्त साधन मुहैया नहीं  कराया जाता है या सुरक्षा को लेकर कोई सख्ती नहीं बरती जाती है, जिसके कारण आए दिन निर्माणाधीन इमारतों पर काम करने वाले मजदूर हादसे का शिकार होकर असमय मौत का शिकार होते हैं। ऐसे ही एक मजदूर की मौत का मामला पूर्व भाजपा विधायक नरेंद मेहता के निर्माणाधीन इमारत से जुड़ा मामला सामने आया है।
ज्ञात हो कि मीरा रोड के विनय नगर में सेवन एलेवन कंस्ट्रक्शन कंपनी जो पूर्व भाजपा विधायक नरेंद्र मेहता एवं उनके संबंधियों का है। उनके द्वारा ‘अपना घर’ फेज ३ नामक इमारत का निर्माण कार्य तेजी से हो रहा है। वहां काम कर रहे मजदूरों से मिली जानकारी के अनुसार, शुक्रवार २४ मई को दोपहर में काम कर रहे मजदूर डबलू बृजलाल यादव के सिर पर निर्माणाधिन इमारत के ऊपरी मंजिल से एक बड़ा पत्थर गिर गया जिससे डबलू गंभीर रूप से घायल हो गया। आनन-फानन में उसे भायंदर के प.भीमसेन जोशी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया। इस हादसे के बाद काशिगाव पुलिस ने सुपरवाइजर एवं ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
पहले भी हो चुकी है कई घटनाएं 
गौरतलब है कि ‘अपना घर’ फेज-३ के निर्माणस्थल पर पहले भी कई जानलेवा घटनाएं हो चुकी हैं। इससे पहले सितंबर २०२३ में निर्माण स्थल पर दो मासूम बच्चों के सिर पर लोहे का एंगल गिरने से उनकी मौत हो गई थी। उसके बाद फरवरी २०२४ में एक युवक मुकेश सिंह मार्को (२६) की चौथी मंजिल से गिरकर मौत हो गई थी।

मामले को कर दिया जाता है रफा-दफा 
सत्यकाम फाउंडेशन के कृष्णा गुप्ता व जिद्दी मराठा के प्रदीप जंगम का कहना है कि अगर लगातार किसी निर्माणाधीन इमारत में घटनाओं से मजदूरों की जान जा रही है तो निश्चित तौर पर ऐसे जगहों पर काम कर रहे मजदूरों के सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। दुर्घटना होने पर मामला को रफा-दफा कर दिया जाता है या फिर पुलिस भवन निर्माताओं के बदले ठेकेदार एवं सुपरवाइजर पर मामला दर्ज करने का खाना पूर्ति करती है।

अन्य समाचार